Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

कृषि विश्वविद्यालय पालमपुर में सुरक्षा को लेकर एवीवीपी ने उठाये सवाल,सहायक रजिस्ट्रार को दिखाया मौका


पालमपुर, प्रवीण शर्मा
कृषि विश्वविद्यालय पालमपुर परिसर में रोज़ाना करीब 200 से 300 ऐसे लोग प्रवेश करते हैं जिनका  विश्वविद्यालय से कोई सीधा संबंध नहीं है इसमें कुछ लोग जो की परिसर के अंदर  घूमने आते हैं या फिर यूनिवर्सिटी ग्राउंड  में खेलते और दौड़ते हैं। जिनकी न किसी गेट मैन द्वारा पूछताछ की जाती है और न ही कोई एंट्री दर्ज की जाती है । अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद कृषि विश्वविद्यालय इकाई द्वारा कृषि विवि की सुरक्षा स्थिति पर सवाल उठाते हुए बताया की इस वक्त कृषि विश्वविद्यालय में जब मर्ज़ी कोई भी प्रवेश कर सकता है , किसी को भी परिसर के अंदर आने से पहले किसी भी प्रकार का आई कार्ड नहीं दिखाना पड़ता है। जिससे हर दिन बहुत से अंजान व्यक्ति बिना किसी रोक टोक के परिसर के अंदर प्रवेश कर रहें है तथा कृषि विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले छात्रों से जिन चीजों का शुल्क लिया जाता है। उनका बाहर के अंजान लोगों द्वारा बिना किसी पूछताछ के इस्तेमाल किया जा रहा है। इसके साथ ही कुछ छात्राओं को भी काफी बार विभिन्न परेशानियों का सामना करना पड़ा है। 
एबीवीपी कृषि विश्वविद्यालय इकाई अध्यक्ष अंकित ठाकुर,एग्रिविजन कृषि विश्वविद्यालय प्रमुख पीजी सचिन सहारण ,एग्रिविजन हि० प्र ० प्रांत संयोजक राहुल शर्मा  ने इस विषय पर सहायक रजिस्ट्रार को मौका दिखाया तथा बताया कि किस प्रकार से बिना बेरोकटोक लोग अंदर आ रहे हैं। 
बताया की इस वक्त कृषि विश्वविद्यालय में सुरक्षा शून्य के बराबर है और काफी समय से प्रशासन द्वारा यह कहा जा रहा है की वि० वि० जल्द ही नए आईडी कार्ड जारी करेगा । उन्होंने आरोप लगाया कि  आज तक न कोई नए आईडी कार्ड बना है और न ही किसी भी प्रकार के आईडी कार्ड का काम किसी भी स्तर पर होता हुआ नजर आ रहा है। जिससे विश्वविद्यालय में कब, कौन व कहाँ से प्रवेश कर रहा है इसका किसी के पास कोई भी लेखा-जोखा नहीं है ,जोकि विश्वविद्यालय की बहुत बड़ी नाकामी को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि जिस दौरान प्रशासनिक अधिकारी के सामने लोगों से यह पूछा गया कि उन्होंने विवि परिसर में कहाँ से प्रवेश किया जिस पर उन्होंने बताया कि जब वह कृषि विवि के मुख्य द्वार से प्रवेश कर रहे थे तब किसी के द्वारा उन्हें रोका नहीं किया और न ही उनसे पूछा गया। इसी दौरान सहायक रजिस्ट्रार अशोक नेगी ने बताया कि वर्तमान में कृषि  विश्वविद्यालय में गार्ड्स की नई भर्ती की गई है, जिसमें करीब 40 एक्स सर्विसमैन सिक्योरिटी गार्ड्स के रूप में तैनात है ,परंतु अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद का यह कहना है कि 40 सिक्योरिटी गार्ड्स होने के बावजूद भी विश्वविद्यालय में कोई भी कभी भी प्रवेश कर सकता है। जिससे सिक्योरिटी का होना ना होना एक बराबर है। उन्होंने कहा कि इस विषय को बीसी के समक्ष रखा जाएगा ताकि समस्या का हल निकल सके । 

Post a Comment

0 Comments

आखिर क्या काम दिया गया मिड-डे मील वर्कर्स को?