Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

धर्मपुर में खूब फल फूल सकता है बागवानी पर्यटन दूर दूर से देखने आ रहे हैं बागवान

धर्मपुर ,संगीता मंडियाल
वर्तमान में धर्मपुर में शिवा प्रोजेक्ट के तहत लग रहे फलदार पौधों को देखने के लिए स्थानीय स्तर व बाहरी जिलों से लोग भी ये देखने आ रहे हैं कि किस तरह से धर्मपुर के किसान अपनी जमीन पर फलदार पौधों का पौधरोपण करके उस जमीन से आमदनी प्राप्त करने का प्रयास कर रहे हैं। जिसे लोगों ने आवारा पशुओं या जंगली पशुओं के प्रहार से होने वाले नुकसान के चलते बंजर छोड़ना शुरू कर दिया था।
प्रदेश सरकार द्वारा चलाये गए शिवा प्रोजेक्ट के तहत उस बंजर बनती भूमि को तारबंदी करते हुए फलदार पौधे जैसे अमरूद,मोसमी,संतरे कीनू निम्बू,अनार,इत्यादि के पौधे लगाकर किसानों को आमदनी का साधन तैयार करके देना शुरु कर दिया है। बागवानी विभाग द्वारा संचालित इस प्रोजेक्ट के तहत पायलट बेस पर दबरोट, बिंगा, धवाली, मनुधार में फलदार पौधे लगाए गए थे जो अब फल देना शुरु हो गए हैं और किसानों को जिसके अच्छे दाम मिलने से आमदनी होने लगी है। इसी को देखने के लिए अब धर्मपुर क्षेत्र की अन्य पंचायतों के किसान बागवान ही नहीं दूसरे जिलों के किसान बागवान भी प्रतिदिन देखने आ रहे हैं और इस तरह से अपनी जमीन में फलदार पौधरोपण करने का विचार बना रहे हैं ताकि इन क्षेत्रों के लोग भी पारम्परिक फसलों को छोड़कर नगदी फसलों की औऱ कार्य करते हुए आमदनी को बढ़ाने का प्रयास करें।
किसान रूप लाल आज़ाद,सुनील अत्रि,यशपाल गुलेरिया, सुशील शर्मा,प्रेम ठाकुर, सुरेन्द्र ठाकुर,गायत्रीदत्त शर्मा,अशोक कुमार,देश राज पालसरा,गोपाल सिंह,इत्यादि स्थानीय किसानों ने कहा कि इन बागीचों की सफलता को देखने के बाद हमने भी अपनी जमीन में फलदार पौधों का पौधरोपण करने का मन बनाया है।कांगड़ा के नूरपुर जौंटा के किसान बागवान गणेश पराशर जब किसी काम के सिलसिले में धर्मपुर आया था तो उसने भी दबरोट के अमरूद की फसल जब देखी तो उसने प्रेस के साथ बातचीत में कहा कि हम लोवर हाइट वाले किसानों के लिए इस तरह के फलदार पौधों जा लगाया जाना एक बरदान साबित होगा गणेश पराशर ने कहा कि हम बचपन से  ही किन्नू, आम,कटहल, नासपाती,लीची,लेमन ग्रास तैयार करते आ रहे है कुछ वर्ष पहले ही हमने हरिमन नर्सरी से लोअर हाइट के सेब के पौधे लगाए हैं जो अब फल देने लगे हैं ।लेंकिन जो फल मुझे इस क्षेत्र में देखने को मिले वो बहुत ही बढ़िया है क्षेत्र के लोगों को चाहिए कि अपनी पारम्परिक फसलों के साथ नगदी फसलों के माध्यम से परिवार की आमदनी बढ़ाएं।
बागवानी विभाग के विषयवाद विशेषज्ञ रमेश ठुकराल से बात की गई तो उन्होंने कहा कि शिवा प्रोजेक्ट के माध्यम से क्षेत्र में बागवानी की ओर लोगों को आकर्षित किया जा रहा है साथ ही सिद्धपुर में मशरूम प्रोजेक्ट तैयार किया जा रहा है जो प्रदेश में अपनी तरह का पहला प्रोजेक्ट है। आने वाले समय में स्थानीय स्तर से प्रदेश व देश के किसान बागवान धर्मपुर में बागवानी में हो रहे काम को देखने व स्टडी करने आएंगे जिसे हम बागवानी पर्यटन का नाम भी देंगे तो कोई नई बात नहीं होगी क्योंकि बाहर से जो भी ये सब देखने आएगा वो बागवानी पर्यटक ही  कहलायेगा।

Post a Comment

0 Comments

काले कपड़े पहन फीस वृद्धि के खिलाफ अभाविप का अनोखा प्रदर्शन