Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

परिवहन निगम की बस में सवार महिला यात्री के लिए फरिश्ता बने चालक व परिचालक

◆अचानक तबीयत बिगड़ने पर जोगेंद्रनगर अस्पताल में उपचार दिलाकर दिलाया जीवनदान।

◆शनिवार को धर्मशाला से केलांग जा रही परिवहन निगम की रात्रिकालीन बस में सवार ढालपूर निवासी महिला यात्री की बिगड़ी थी तबीयत।

 जोगेंद्रनगर,जतिन लटावा
मंडी जिला के जोगेंद्रनगर में हिमाचल पथ परिवहन निगम के चालक व परिचालक अस्थमा की बिमारी की मरीज के लिए फरिश्ता बने हैं। रात्रिकालीन बस में सवार एक महिला यात्री की अचानक तबीयत बिगड़ जाने पर बस के चालक-परिचालक ने यात्री को अस्पताल पहुंचाकर नया जीवनदान दिलाया है। समय पर उपचार मिल जाने से यात्री की जान बच गई। निगम के चालक-परिचालक के इस नेक कार्य पर परिवहन निगम के उच्चाधिकारियों ने प्रशंसा की है। स्थानीय प्रशासन भी चालक-परिचालक के इस सराहनीय कार्य पर उत्साहित है। शनिवार को केलांग बस डिपू की रात्रिकालीन बस धर्मशाला से केलांग की ओर जा रही थी। तभी कांगड़ा में सवार महिला यात्री की रात करीब 9 बजे तबीयत बैजनाथ से जोगेंद्रनगर की ओर आते हुए अचानक बिगड़ गई। सांस की दिक्कत के चलते बस में सवार ढालपूर निवासी इंदू 40 अचानक कहराने लगी। इससे बस में सवार यात्रियों में भी हड़कंप मच गया। लेकिन बस के परिचालक पंकज व चालक मोहन सिंह ने सूझबूझ का परिचय देते हुए नजदीकी जोगेंद्रनगर अस्पताल के चिकित्सकों से संपर्क किया और बिना समय गंवाए यात्री को अस्पताल में उपचार के लिए पहुंचाया। समय पर उपचार मिल जाने से यात्री की जान बच गई। 
बस चालक मोहन सिंह व परिचालक पंकज की मौजूदगी में सिविल अस्पताल जोगेंद्रनगर की आपात सेवाओं में मौजूद डाॅ अंकित ने उपचार दिलाया। करीब एक घंटे तक अस्पताल में आबजर्वेशन में रखा। फिर हालत में आए सुधार को देखते हुए यात्री को परिवहन निगम की इसी बस में कुल्लू की ओर रवाना किया। निगम की बस के चालक मोहन सिंह व परिचालक पंकज ने बताया कि अगर समय पर बस में सवार महिला यात्री को उपचार नहीं दिलाया होता तो उसकी जान पर भी जोखिम पैदा हो सकता था। 
वहीं सकुशल घर पहुंच चुकी ढालपूर निवासी इंदू ने बताया कि परिवहन निगम के चालक व परिचालक के द्वारा समय पर अस्पताल में उपचार दिलाने पर उन्हें नया जीवनदान मिला है। उन्होंने चालक-परिचालक के द्वारा समय पर उपचार दिलाने पर आभार जताया है।

परिवहन निगम की रात्रिकालीन धर्मशाला त्रिलोकीनाथ बस में अचानक एक महिला यात्री की तबीयत बिगड़ जाने की सूचना मिली थी। बिना समय गंवाए निगम के बस चालक व परिचालक ने जोगेंद्रनगर अस्पताल में प्राथमिक उपचार दिलाकर जीवनदान दिलाया है। चालक-परिचालक के इस सराहनीय कार्य से महिला यात्री को जीवनदान मिला है। जिसकी प्रशंसा निगम के उच्चाधिकारी भी कर रहे हैं।

मंगल चंद, क्षेत्रीय प्रबंधक हिमाचल पथ परिवहन निगम, केलांग डिपू।


Post a Comment

0 Comments

आखिर क्यों राशन डिपुओं से हुई चीनी गायब