Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

हिमाचल के 143 युवाओं ने अनुराग ठाकुर के साथ वीरभूमि की मिट्टी दिल्ली कलश में डाली

                                      मेरी माटी-मेरा देश कार्यक्रम में हिमाचल की शानदार भागीदारी

शिमला,रिपोर्ट नीरज डोगरा 

मेरी माटी मेरा देश कार्यक्रम के अन्तर्गत वीरभूमि हिमाचल के गाँवों की मिट्टी लेकर दिल्ली पहुँचे 143 युवाओं ने नई दिल्ली में केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण और युवा एवं खेल मामलों के मंत्री श्री अनुराग सिंह ठाकुर के साथ कर्तव्य पथ पर विशाल कलश में हिमाचल की मिट्टी अर्पित की । इसी विशाल कलश की मिट्टी से कर्तव्य पथ पर अमृत उद्यान का निर्माण होगा।


 
इस दौरान मीडिया कर्मियों से वार्तालाप करते हुए श्री ठाकुर ने बताया, " हमारी वीरभूमि हिमाचाल वीरों की जननी है, वीरों की भूमि है। वीरभूमि हिमाचल प्रदेश बलिदानियों की भूमि है। यहाँ गाँव के गाँव हमारे वीरों के क़िस्सों से पटे पड़े हैं। मेरी माटी मेरा देश हमारे शहीदों , स्वतंत्रता संग्राम के गुमनाम नायकों को याद करने का उन्हें श्रद्धांजलि देने का प्रयास है। मेरी माटी, मेरा देश' आजादी के अमृत महोत्सव का अंतिम कार्यक्रम है। पूरे देश ने पिछले दो वर्षों में आजादी का अमृत महोत्सव मनाया। लाखों कार्यक्रम हुए, करोड़ों लोग इससे जुड़े। माननीय प्रधानमंत्री जी ने मेरी माटी, मेरा देश कार्यक्रम की शुरुआत करने को कहा तो पूरे देश के 6 लाख से ज्यादा गांवो और 7500 ब्लॉक्स में अमृत कलश यात्राएं निकलीं और मिट्टी इकट्ठा की गई और हिमाचल प्रदेश ने भी इसमें बढ़ चढ़ कर भाग लिया। पूरे देश से इकट्ठी की गई इस मिट्टी से कर्तव्य पथ पर अमृत उद्यान बनेगा। आज विजय चौक से लेकर इंडिया गेट तक युवाओं का हुजूम देश की मिट्टी को नमन और वीरों का वंदन करने हेतु जमा है।"

ठाकुर ने आगे बताया, "कल माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी इस कार्यक्रम का विधिवत समापन कर देशवासियों को संबोधित करेंगे। आज कर्तव्य पथ पर आपकी विशाल कलश देख सकते हैं जिसमें पूरे देश के 6 लाख गांव से आई मिट्टी रखी गई है।तमिलनाडु से लेकर जम्मू कश्मीर तक और नागालैंड से लेकर गुजरात तक संपूर्ण देश के युवाओं में देशभक्ति की भावना कूट-कूट कर भरी है। आज तपती धूप में पूरे देश से युवा नई दिल्ली में एकत्रित हैं। हाथों में तिरंगा लिए युवाओं का जोश देखते ही बनता है।"





Post a Comment

0 Comments

आखिर क्यों राशन डिपुओं से हुई चीनी गायब