Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

मंडी में विद्युत बोर्ड पेंशनर फोरम की ओर से राष्ट्रीय पेंशनर दिवस कार्यक्रम राजनीति के अखाड़े में हुआ तब्दील

                                 विद्युत पेंशनरों के कार्यक्रम में चुनाव पर बिगड़ी बात, मंच पर छीनाझपटी

मंडी,रिपोर्ट सोनिका ठाकुर 

मंडी में विद्युत बोर्ड पेंशनर फोरम की ओर से राष्ट्रीय पेंशनर दिवस कार्यक्रम राजनीति के अखाड़े में तब्दील हो गया। चुनाव को लेकर अलग-अलग वर्ग के बिजली बोर्ड पेंशनर आमने-सामने हो गए। एक घंटा गहमागहमी रही। प्रधान पद पावर इंजीनियर के होने की बात रखने के बाद मंडी के भीमाकाली परिसर में चल रहे कार्यक्रम में खूब हंगामा हुआ।

भड़के पेंशनर मंच पर चढ़कर एक-दूसरे को तर्क देने लग पड़े और अफरातफरी मच गई। कार्यक्रम में चुनाव को लेकर एजेंडा रखने को लेकर पेंशनरों ने रोष जताया। माहौल गरमाने के बाद चुनाव स्थगित करने पड़े। प्रदेशभर से फोरम सदस्यों ने कार्यक्रम में हाजिरी भरी, लेकिन कार्यक्रम में पहला एजेंडा ही चुनाव का रखा गया।पैनल घोषित होने के साथ ही विरोध और नारेबाजी शुरू हो गई। मंच पर माइक की छीनाझपटी की कोशिश की गई। एचपीएसईबी इम्पाइज यूनियन के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष व फोरम सदस्य कुलदीप सिंह खरबाड़ा ने कहा कि पेंशनर दिवस पर हुए कार्यक्रम में चुनाव पर चर्चा ही सही नहीं थी।

यहां कुछ लोग एक पैनल पर मुहर लगवाना चाहते थे। ऐसा नहीं हुआ तो शरारती तत्व करार दिया गया। उन्होंने कहा कि इंजीनियर को प्रधान बनाने के प्रस्ताव का विरोध हुआ। लोकतंत्र में समर्थन व विरोध होता है। कहा कि पिछली कमेटी को भंग किए बगैर असंवैधानिक तरीके से चुनाव करवाए जा रहे थे।चुनाव को किसी और दिन रखें और बाकायदा इसकी अधिसूचना जारी करें। डेलीगेट्स व अन्य चीजों को स्पष्ट सूचना दें। पेंशनरों की ढेरों की समस्याएं हैं। बिजली बोर्ड की आर्थिक दशा खराब है। प्रबंधन मनमान कर रहा है। दूसरी ओर, हंगामे को लेकर पूछने पर फोरम के महासचिव चंद्र सिंह मंडयाल ने बताया कि छोटी मोटी बातें होती रहती हैं।



Post a Comment

0 Comments

बाढ़ से बचाब के लिए चक्की पुल पर लगेगी 109 करोड़ की  सुरक्षा दीवार