Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

केंद्रीय रोग नियंत्रण और रोकथाम समिति ने सिविल अस्पताल पालमपुर का किया दौरा

                                टीवी संक्रमण की रोकथाम के लिए की जा रही गतिविधियों का लिया जायजा 

पंचरुखी,रिपोर्ट बलजीत शर्मा 

केंद्रीय रोग नियंत्रण और रोकथाम समिति के पांच सदस्यीय दल ने सोमवार को नागरिक अस्पताल पालमपुर में टीबी मुक्त भारत, संक्रमण की रोकथाम और नियंत्रण के लिए की जा रही गतिविधियों का जायजा लिया।टीम सदस्यों में  चिकित्सा अधिकारी (यूएस) सीडीसी डॉ. क्रिस्टीन , टीबी ब्रांच चीफ सीडीसी इंडिया डॉ. हरदीप संधु, जन स्वास्थ्य विशेषज्ञ टीबी सीडीसी इंडिया डॉ राजेश देशमुख, शेयर इंडिया एसोसिएट निदेशक एवं मुक्त भारत संक्रमण की रोकथाम और नियंत्रण डॉ सतीश और राज्य परियोजना अधिकारी डॉ सुशील चंद्र ने अस्पताल में टीबी रोकथाम के लिये उठाए जा रहे कदमों का जायजा लेने के उपरांत महत्वपूर्ण सुझाव और आवश्यक दिशा-निर्देश भी दिए।

टीम ने पालमपुर अस्पताल में टीबी मुक्त भारत संक्रमण की रोकथाम और नियंत्रण के लिए किए गए प्रयासों की सराहना भी की। उन्होंने टीवी के रोगियों को दी जा रही सुविधाओं का भी निरीक्षण किया।। इस दौरान अस्पताल की चिकित्सा अधीक्षक डॉ मीनाक्षी गुप्ता ने टीम सदस्यों का स्वागत कर टीम सदस्यों को हिमाचली टोपी पहनाकर सम्मानित भी किया।डॉ मीनाक्षी ने अस्पताल द्वारा टीवी उन्मूलन के लिए की जा रही गतिविधियों की जानकारी दी।उन्होंने कहा कि संक्रमण से फैलने वाली बीमारियों के लिए रोग नियंत्रण और रोकथाम एक महत्वपूर्ण कार्य है, इससे न केवल स्वास्थ्य कर्मी को बीमारियों का खतरा कम होता है जबकि रोगी और उनके साथ आने वाले अटेंडेंट को भी एक दूसरे से संक्रमण का खतरा कम हो जाता है। 

https://www.cgc.ac.in/course/all-courses/?utm_source=himchalfirstfast&utm_medium=babushahi&utm_campaign=himchalfirstfast

उन्होंने कहा कि रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र के सहयोग से पालमपुर अस्पताल में टीबी मुक्त भारत संक्रमण की रोकथाम और नियंत्रण के लिए अलग से फास्ट टैग काउंटर बनाया गया है। जिसमें खांसी इत्यादि वाले मरीजों को फास्टैग के माध्यम से बिना किसी लाइन में लगे हुए संक्रमण की जांच की जाती है। जिससे जल्द ही बीमारी की जांच कर उसका उपचार किया जाता है।उन्होंने यह भी बताया कि अस्पताल में टीवी रोगियों के लिए अलग से टीवी केयर वार्ड स्थापित किया गया है, जिसमें टीवी की बीमारी के गंभीर रोगियों को वार्ड में दाखिल जाता है और उनका उपचार किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि अस्पताल में टीवी उन्मूलन के लिए बेहतर प्रयास किया जा रहे हैं, ताकि टीवी मुक्त भारत अभियान के लक्ष्य को हासिल किया जा सके। 




Post a Comment

0 Comments

जिला सोलन में  अनियंत्रित होकर सड़क से एक तरफ लटकी एचआरटीसी बस