Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

आदि हिमानी चामुण्डा के रास्ते पर 75 ओर सोलर लाईटें लगाने के लिए पैसे जमा करवाये अगले महिने एक साल हो जाएगा

     जन सहयोग योजना के अन्तर्गत आदि हिमानी चामुण्डा मन्दिर के रास्ते पर 101 सोलर लाईटें लगवाई

पालमपुर,ब्यूरो रिपोर्ट

समाज सेवा में समर्पित इन्साफ संस्था के अध्यक्ष एवं पालमपुर के पूर्व विधायक प्रवीन कुमार ने बताया कि गत वर्ष उनकी संस्था ने स्थानीय पंचायत के सहयोग से विकास में जन सहयोग योजना के अन्तर्गत आदि हिमानी चामुण्डा मन्दिर के रास्ते पर 101 सोलर लाईटें लगवाई थी । इस तरह सोलर लाईटें लगने से धोलाधार का यह आंचल माता वैष्णो देवी की तरह रात के अंधेरे में जगमगा उठता है। 

परिणामस्वरूप  शिखर पहाड़ी पर स्थित इस मन्दिर में इस बार अन्य प्रदेशों से भी भारी संख्या में श्रद्धालु माथा टेकने आ रहे हैं । पूर्व विधायक ने बताया इन सोलर लाईटों के लगने से दो मुख्य फायदे हो गये हैं । एक तो रात के अंधेरे में भी यात्री यात्रा कर रहे हैं दूसरा श्रद्धालु रास्ता भटक जाते थे ऐसे में कई अप्रिय घटनाएँ भी घटी हैं अव इन लाईटें से मन्दिर तक रास्ता रेखांकित हो गया है। पूर्व विधायक ने कहा कि पिछले दिनों वह संस्था के प्रतिनिधियों के साथ उपायुक्त श्री हेम राज बैरवा जी से मिले थे ओर आग्रह किया था कि पब्लिक इन्ट्रैस्ट में चुनाव आयोग से अनुमति लेकर इन प्रस्तावित लाईटों को लगाया जाया । प्रवीन कुमार ने बताया कि इन्साफ संस्था की टीम ने श्रद्धालुओं के आग्रह पर यहाँ दस किलोमीटर लम्बे रास्ते पर ब्लैक स्पॉट चिन्हित करके ही इस तरह 75 सोलर लाईटों के लिए धनराशि जमा करवाई थी ।

 पूर्व विधायक ने कहा कि यह काबिले तारीफ है कि हमारी मुलाकात के उपरान्त शायद उपायुक्त श्री हेम राज बैरवा जी पहले मन्दिर आयुक्त होंगे जिन्होंने इतनी दूर पैदल चलकर मन्दिर में माथा टेका ओर लम्बे समय से निर्माणाधीन मन्दिर भवन एवं मूलभूत सुविधाओं का जायजा लिया। पूर्व विधायक ने मन्दिर आयुक्त महोदय को सुझाव देना चाहा है जिस तरह अन्य धार्मिक स्थलों में मन्दिरों के कपाट खुलने पर यात्राएँ शुरू होती हैं उसी तरह मन्दिर ट्रस्ट एवं पर्यटन विभाग के बैनर तले सभी विभागों के सहयोग से आदि हिमानी चामुण्डा की यात्रा का भी समय निर्धारित करके यात्रियों के लिए तमाम सुविधाओं के साथ यात्रा का रोडमेप तैयार किया जाए ।




Post a Comment

0 Comments

आखिर क्यों राशन डिपुओं से हुई चीनी गायब