Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

पहाड़ पर मतदान करवाना पहाड़ जैसा

                                      कहीं चौपर तो कहीं मीलों पैदल चल मतदान केंद्रों तक पहुंचे कर्मी

कुल्लू,ब्यूरो रिपोर्ट 

हिमाचल प्रदेश में लोकसभा चुनाव और विधानसभा उपचुनाव के लिए पोलिंग पार्टियां रवाना कर दी गईं। हिमाचल में पोलिंग पार्टियों को काफी मशक्कत करनी पड़ती है। कई मतदान केंद्र काफी दूर और अति दुर्गम इलाकों में हैं, जहां पहुंचना पोलिंग पार्टियों के लिए किसी युद्ध जीतने से कम नहीं है। इन्हीं में से एक मतदान केंद्र है कुल्लू जिले का शाक्टी। यहां तक पहुंचने के लिए कर्मचारियों को 15 किलोमीटर तक पैदल चलना पड़ा। खड़ी चढ़ाई और संकरे रास्ते को पार करते हुए ईवीएम मजदूरों की मदद से केंद्र तक पहुंचाई गईं। 

बंजार से लेकर निहारनी तक पोलिंग पार्टी गाड़ी से पहुंची। निहारनी से आगे शाक्टी तक पैदल ही जाना पड़ा। आठ सदस्यों वाली टीम निहारनी से वीरवार दोपहर करीब 1:15 बजे शाक्टी के लिए पैदल रवाना हुई। शाक्टी मतदान केंद्र में बिजली की सुविधा भी नहीं है। मतदान के दिन ईवीएम भी सोलर पैनल से चलेगी। मणिकर्ण के रशोल, सैंज के मझाण के लिए भी पार्टियों को पैदल चलना पड़ा। एसडीएम बंजार पंकज शर्मा ने बताया कि दुर्गम इलाकों के पोलिंग बूथों के लिए टीमें रवाना कर दी गई हैं। शाक्टी के लिए रवाना हुई टीम निहारनी से पैदल गई। ईवीएम दो मजूदरों की सहायता से केंद्र तक पहुंचाई गईं।


चंबा के अहलमी मतदान केंद्र सड़क से 16 किलोमीटर दूर है। यहां तक पहुंचने के लिए चुनाव कर्मियों को ईवीएम उठाकर 5 से 6 घंटे पैदल सफर करना पड़ा। यहां 185 मतदाता हैं। भटियात का चक्की सड़क मतदान केंद्र भी सड़क से 8 किलोमीटर दूर है। यहां पहुंचने के लिए पार्टियों को नाव पर नदी पार कर पैदल सफर तय कर पहुंचना पड़ा। चक्की मतदान केंद्र के अधीन 138 मतदाता हैं। चुराह का ज्यूरी मतदान केंद्र भी सड़क से 8 किलोमीटर दूर है। यहां 150 मतदाता हैं। चंबा का सरां मतदान केंद्र 4 किलोमीटर की खड़ी चढ़ाई चढ़ने के बाद है। पार्टियों को तीन घंटे पैदल सफर कर पहुंचाना पड़ा।

जिले की सबसे दुर्गम पंचायत बड़ा भंगाल के लिए पांच सदस्यीय पोलिंग टीम सेना के चौपर मेें रवाना हुई। एक टीम बुधवार को चंबा के होली के पैदल रास्ते से बड़ा भंगाल के लिए रवाना हुई थी। बड़ा भंगाल में 469 मतदाता हैं। इनमें से 310 मतदाता बीड़ के पोलिंग बूथ पर मत का प्रयोग करेंगे और 159 बड़ा भंगाल के स्कूल में स्थापित पोलिंग बूथ में वोट डालेंगे। सहायक निर्वाचन अधिकारी एसडीएम देवी चंद ठाकुर ने बताया कि बड़ा भंगाल मतदान करवाने कई टीम 2 मई को वापस पहुंचेगी।




Post a Comment

0 Comments

आखिर क्यों राशन डिपुओं से हुई चीनी गायब