Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

कटे-फटे पोस्टर और बैनर शहर की सुंदरता पर लगा दाग

                                           नियम दरकिनार कर धर्मशाला में लगा दी होर्डिंग्स की भरमार

काँगड़ा,ब्यूरो रिपोर्ट 

पर्यटन नगरी धर्मशाला में राजनीतिक दलों और निजी संस्थानों के होर्डिंग्स और कटे-फटे पोस्टर और बैनर शहर की सुंदरता पर दाग लगा रहे हैं। इन होर्डिंग्स की वजह से सड़क हादसों का खतरा भी सता रहा है। यहां पर्यटन सीजन पीक पर है, लेकिन पूरा धर्मशाला शहर वर्तमान में विज्ञापन नगरी बन चुका है। जहां जिसका दिल कर रहा है वे वहीं अपने विज्ञापन बिना नगर निगम की अनुमति के टांगकर शहर की सुंदरता को खराब किया जा रहा है।

 बिना अनुमति शहर को खराब करने वाले लोगों पर नगर निगम की ओर से कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। एकतरफ नेता धर्मशाला में विकास को अपनी प्राथमिकता बता रहे हैं तो वहीं दूसरी ओर हर कहीं पोस्टर लगाकर शहर की सुंदरता पर दाग लगा रहे हैं। उधर, नगर निगम के अधिकारी मजे से आराम फरमा रहे हैं। इससे नगर निगम की आय में भी लाखों का घाटा हो रहा है।अगर नियमानुसार इनसे शुल्क वसूला जाए तो निगम को मोटी कमाई हो सकती है।जानकारी के अनुसार नगर निगम की ओर से धर्मशाला शहर को तीन जोन में बांटा गया है। जोन ए, बी, सी में विज्ञापन के साइज के हिसाब से शुल्क तय किया गया है, लेकिन नगर निगम के सुस्त रवैये के कारण निर्धारित स्थानों के अलावा भी पूरे शहर को होर्डिंगों से भर दिया गया है। जहां नगर जा रही है वहीं किसी न किसी का पोस्टर या विज्ञापन नगर आ जाता है।

लोकसभा चुनाव और धर्मशाला हल्के में विधानसभा के उपचुनाव होनेे हैं। ऐसे में राजनीतिक दलों की ओर से नगर निगम को चंद रुपये देकर उनका मुंह बंद कर दिया है, लेकिन नियमों के हिसाब से चलें तो विज्ञापनों की ही राशि लाखों में हो जाएगी। नगर निगम धर्मशाला में 17 वार्ड हैं और हर वार्ड में 200 से अधिक होर्डिंग्स लगाए गए हैं। इस हिसाब से तो नगर निगम की चांदी हो सकती है, लेकिन लचर व्यवस्था के कारण नगर निगम की सुंदरता को खराब हो ही रही है, वहीं नगर निगम की आय में भी कमी आ रही है।नगर निगम क्षेत्र में विज्ञापन शुल्क को स्थान के हिसाब से 3 श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया है। इसके तहत भागसूनाग, मैक्लोडगंज, गांधी पार्क, नगर निगम और कोतवाली बाजार को पहली श्रेणी में रखा गया है। वहीं जिलाधीश कार्यालय के समीप क्षेत्र, शिक्षा बोर्ड के समीप क्षेत्र, क्रिकेट स्टेडियम, चरान चौक, पोस्ट ऑफिस चौक और बाईपास चौक, कोतवाली बाजार को दूसरी श्रेणी में रखा गया है। वहीं, खनियारा रोड, पटोला, सिद्धबाड़ी, रक्कड़, फतेहपुर, मोहली रोड, कैंट रोड, बाईपास रोड मैक्लोडगंज से लेकर सकोह रोड और शीला चौक को तीसरी श्रेणी में रखा गया है।




Post a Comment

0 Comments

आखिर क्यों राशन डिपुओं से हुई चीनी गायब