Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

जिले में गर्मी के प्रकोप से लोग परेशान,जा रहे है खड्डो में नहाने

                                                          सूखे से किसानों की भी बढ़ी परेशानी

काँगड़ा,ब्यूरो रिपोर्ट 

मैदानी इलाकों के साथ पहाड़ी इलाकों में भी प्रचंड गर्मी से बचने और ठंडक का अहसास पाने के लिए बाहरी राज्यों से आने वाले सैलानी और स्थानीय लोग खड्डों के ठंडे पानी का सहारा ले रहे हैं। पर्यटन नगरी धर्मशाला की तो भागसूनाग स्थित वाटरफाल, खड्ड और स्वीमिंग पूल में रोजाना सैकड़ों की संख्या में सैलानी वहां नहाकर गर्मी से राहत पा रहे हैं। 

इसके अलावा खनियारा स्थित मांझी खड्ड और अन्य क्षेत्रों में भी पूरा दिन युवा खड्ड में नहाते नजर आ रहे हैं।जानकारी के अनुसार मई के तीसरे हफ्ते में ही तपती गर्मी के कारण लोगों का हाल बेहाल हो गया है। पूरा दिन सड़कों और बाजारों में कोई रौनक नजर नहीं आ रही है। इससे कारोबार भी काफी प्रभावित हो रहा है। मैदानी इलाकों के कारोबारी पूरा दिन ग्राहकों का इंतजार कर रहे हैं। सुबह नौ बजे के बाद से ही तेज गर्मी के कारण लोग घरों से बाहर नहीं निकल रहे हैं। पूरा दिन बाजारों से रौनक गायब नजर आ रही है, इससे कारोबारी मायूस हैं।वहीं, तपती गर्मी ने किसानों की चिंताओं को भी बढ़ा दिया है। तेज धूप के कारण खेतों में लगाए सब्जी के पौधे सूखने की कगार पर पहुंच गए हैं।जानकारी के अनुसार इस सीजन में किसानों में खेतों में भिंडी, लोकी, कद्दू, घिया, तोरी, खीरा, कलेरा, बैंगन, शिमला मिर्च और हरी मिर्च आदि सब्जी उगा रखी है, जिसे इस समय बारिश या सिंचाई की जरूरत है, लेकिन बारिश न होने के कारण यह सब्जियां सूखना शुरू हो गई हैं।मैदानी इलाकों में तो तेज गर्मी से लोग जूझ ही रहे हैं, लेकिन पहाड़ी क्षेत्रों में भी गर्मी काफी बढ़ गई है। 

इस वजह से सैलानियों की संख्या में भी ज्यादा बढ़ोतरी नहीं हुई है। वीकेंड पर भी पर्यटन नगरी के होटलों में ऑक्यूपेंसी 40 से 45 फीसदी तक ही रही। इसका एक कारण लोकसभा चुनाव भी बताए जा रहे हैं। वहीं, चुनावों के बाद पहाड़ी इलाकों में पर्यटकों की संख्या में बढ़ोतरी की उम्मीद है।पर्यटन नगरी में आईपीएल मैचों के बाद से होटलों में ऑक्यूपेंसी ज्यादा नहीं बढ़ी है। वीकेंड पर भी होटलों में ऑक्यूपेंसी 40 से 45 फीसदी तक पहुंच रही है। हो सकता है लोकसभा चुनाव के कारण बाहरी राज्यों से सैलानी यहां कम आ रहे हैं। - राहुल धीमान, अध्यक्ष, होटल एंड रेस्तरां एसोसिएशन स्मार्ट सिटी धर्मशाला।इस समय फलदार पौधों पर नई फसल तैयार हो रही है। ऐसे में हफ्ते में एक बार इन पौधों को सिंचाई की सख्त जरूरत है। गर्मी अधिक होने से इनकी ग्रोथ नहीं हो पाएगी। पौधों में नमी बरकरार रखने के लिए पौधों के पास ग्रास मल्चिंग करें।




Post a Comment

0 Comments

आखिर क्यों राशन डिपुओं से हुई चीनी गायब