Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

अस्पतालों में फार्मेसी अधिकारियों की कमी से निशुल्क दवाई वितरण सुविधाएं हो रही प्रभावित

                                     घण्टों लाइन में खड़े होने से निजी अस्पतालों को रुख कर रहे मरीज

जवाली,रिपोर्ट राजेश कतनौरिया 

हिमाचल प्रदेश हॉस्पिटल फार्मेसी ऑफिसर्ज एसोसिएशन की प्रदेश स्तरीय वर्चुअल बैठक प्रदेशाध्यक्ष राजेश कुमार व वरिष्ठ उपाध्यक्ष भरत भूषण की अध्यक्षता में हुई जिसमें प्रदेश कार्यकारिणी के साथ-साथ जिला फार्मेसी अधिकारियों ने भाग लिया। बैठक में कर्मचारियों को कार्यस्थल पर आ रही समस्याओं बारे चर्चा की गई। 

प्रदेशाध्यक्ष राजेश कुमार व वरिष्ठ उपाध्यक्ष भरत भूषण ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा पीएचसी से लेकर क्षेत्रीय अस्पताल तक को स्तरोन्नत किया जा रहा है जिसमें चिकित्साधिकारियों सहित स्टाफ नर्सिस के पदों को सृजित किया जा रहा है लेकिन फार्मेसी अधिकारियों के पदों को सृजित नहीं किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि लगभग दो सालों से सरकार द्वारा फार्मेसी अधिकारी के पदों को नहीं भरा जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा मरीजों को अस्पतालों में मुफ्त दवाइयां उपलब्ध करवाई जा रही हैं लेकिन अस्पतालों में फार्मेसी अधिकारी के पदों को मरीजों की संख्या के आधार पर न भरे जाने से मरीजों को दवाइयां लेने के लिए लंबी कतारों में खड़ा होना पड़ रहा है। 

लोग लाइनों में घण्टों खड़ा होने की बजाए मजबूर होकर निजी अस्पतालों को रुख कर जाते हैं। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही संघ सरकार एवं स्वास्थ्य सेवाएं निदेशक से मिलकर अपनी मांगों को उठाएगा। उन्होंने प्रदेश सरकार से मांग की है कि स्तरोन्नत के हिसाब से अस्पतालों में फार्मेसी अधिकारी के पदों को भी सृजित किया जाए ताकि मरीजों को सुविधा मिल सके। इस मौके पर काफी संख्या में पदाधिकारी मौजूद रहे।






Post a Comment

0 Comments

 कई भागों में 21 जुलाई तक मानसून की बारिश जारी