Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

सुलाह का समग्र तथा एकाग्र विकास प्राथमिकता : परमार


  • पालमपुर 20 जुलाई,प्रवीण शर्मा
    सुलाह विधान सभा क्षेत्र का एकाग्र और समग्र विकास ही मेरी प्राथमिकता है। यह उदगार विधानसभा अध्यक्ष, विपिन सिंह परमार ने सोमवार को सुलाह हलके के मरांडा और कालू दी हट्टी क्षेत्रों में चल रहे विभिन्न विकास कार्यों का निरीक्षण और प्रगति का जायजा लेने के उपरांत व्यक्त किये।




उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री, जयराम ठाकुर के नेतृत्व में सरकार लोगों की चिंता करने वाली सरकार है और प्रदेश का सर्वांगीण विकास की सर्वोच्च प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि हर घर के लिये में पेयजल और खेत तक सिंचाई सुविधा उपलब्ध करवाना उनकी सर्वोच्च प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि ग्राम पंचायत बंघियार के मरांडा के लिये स्वीकृत प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का निरीक्षण किया। उन्होंने कहा इस क्षेत्र के लोगों की वर्षो पुरानी मांग थी जिसे मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने पूरा किया है। उन्होंने कहा कि इस अस्पताल को मुख्यमंत्री 25 जुलाई को ऑनलाइन एक भवन में आरम्भ करने का शुभारंभ करेंगे। उन्होंने धौलाधार कॉलोनी , कालू दी हट्टी और उपरला बाग में लग रहे 3 ट्यूब वेलों तथा नई पाइप लाइन बिछाने के कार्य का निरीक्षण भी किया।

उन्होंने बताया कि इन तीन ट्यूबवेलों के स्थापित होने से इस क्षेत्र के लगभग 1500 लोग लाभान्वित होंगे और क्षेत्र में पेयजल आपूर्ति में सुधार होगा। उन्होंने कहा कि सुलाह हलके में पेयजल की कोई कमी नहीं है। क्षेत्र के लोगों को भरपूर मात्रा में पेयजल उपलब्ध हो, इस कार्य को सुनिश्चित करने के लिय नए ट्यूबवेल भी स्थापित किये जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि उपरला बाग गाँव मे सड़क सुविधा के लिये रेलवे तथा लोक निर्माण विभाग से डीपीआर के कार्य को तेजी लाने के निर्देश दिये गए हैं।
उन्होंने कहा कि कुछ लोग हलके के लोगों को गुमराह करने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि पूर्व की तरह भवारना, डरोह, गढ़, खैरा, कुरल, आटियालादाई, ननाओं, भवारना, सुलाह इत्यादि क्षेत्र एसडीएम पालमपुर के ही अधीन हैं। उन्होंने कहा कि नव-निर्मित उप तहसील सुलाह पालमपुर तहसील का ही अंग हैं।
इस अवसर पर भाजपा मंडल अध्यक्ष देश राज शर्मा, जिला परिषद अध्यक्ष मधु गुप्ता, तनु भारती, सुखदेव मसंद और चन्द्रवीर उपस्थित रहे।

Post a Comment

0 Comments

टकारला में खेत में पड़ा पशुचारा (तूड़ी) जलकर राख