Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

विजय सिंह मनकोटिया ने लगाये केबिनेट मंत्री पर भूमि के खरीद फरोख्त के आरोप

कहा सरकार छोड़ के कर क्यों नहीं बन जाते प्रॉपर्टी डीलर



  • धर्मशाला 8 अगस्त,अरविंद शर्मा
    पूर्व मंत्री विजय सिंह मनकोटिया ने अब जिला से संबंधित एक केबिनेट मंत्री पर भूमि खरीद के आरोप लगाए हैं। मनकोटिया ने कहा कि भू-संपत्तियां खरीद रहे मंत्री, पॉपर्टी डीलर क्यों नहीं बन जाते।




उन्होंने आरोप लगाया कि जिला में विभिन्न स्थानों पर 4000 कनाल से अधिक भूमि की खरीद की गई है, जिसकी सीबीआई से जांच करवाई जाए।

मनकोटिया ने इन खरीदी गई भू-संपत्तियों की जांच के लिए पीएम नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नडडा, पूर्व सांसद शांता कुमार, प्रदेश के राज्यपाल बंडारु दत्तात्रेय और सीएम जयराम ठाकुर को पत्र लिखा है।

मनकोटिया ने शनिवार को प्रेसवार्ता में आरोप लगाया कि प्रदेश में बड़े स्तर पर भू-माफिया सक्रिय है। मनकोटिया ने कहा कि जिला के एक केबिनेट मंत्री के रिश्तेदारों और उनसे जुड़े लोगों के नाम पर जिला के विभिन्न स्थानों पर भूमि खरीदी गई है। सरकार को यह जांच करवानी चाहिए कि जिन लोगों के नाम पर भूमि खरीदी गई है, वो लोग कौन हैं। मनकोटिया ने कहा कि वर्ष 2018 से जमीन की खरीद फरोख्त हो रही है। सरकार को बताना चाहिए कि इतनी भूमि खरीद के पीछे क्या वजह है तथा कौन सा प्रोजेक्ट लगने जा रहा है। मनकोटिया ने आरोप लगाया कि जिला में भू-माफिया का बहुत बड़ा गिरोह सक्रिय है। पिछले दो साल से यह क्रम चल रहा है, ऐसे में सरकार ने अभी तक इस संज्ञान लिया है या नहीं। मनकोटिया ने कहा कि उनके द्वारा पत्र में जो 6 बिंदु दर्शाए गए हैं, उनकी सीएम जयराम ठाकुर सीबीआई जांच करवाएं और यह भी पता लगाया जाए कि भू-माफिया किसकी शह पर काम कर रहा है। मनकोटिया ने कहा कि धर्मशाला में आयोजित इन्वेस्टर मीट के दौरान निवेशकों को हिमाचल में निवेश के लिए आमंत्रित किया गया था, जबकि इससे पहले से ही भू-माफिया यहां सक्रिय हो गया था।

मुख्यमंत्री स्वच्छ भ्रष्टाचार मुक्त सरकार की बात कर रहे जबकि मनकोटिया के आरोप भी गम्भीर, सरकार के मंत्री पर लगाये आरोप

प्रदेश में भाजपा सरकार को सत्तासीन हुए ढाई साल का समय बीत चुका है, लेकिन अभी तक कोई बड़ा भ्रष्टाचार का मामला सामने नहीं आया है। पूर्व मंत्री मेजर विजय सिंह मनकोटिया ने भ्रष्टाचार का पहला मामला उठाकर जयराम सरकार से सीबीआई जांच करने का आग्रह किया है।

मनकोटिया ने सरकार के एक कबिना मंत्री पर भू-माफिया के साथ तार जुड़े होने का आरोप लगाया है। हालांकि चंद दिन पहले ही मुख्यमंत्री ने अपने मंत्रिमंडल में फेरबदल कर स्वच्छ छवि के मंत्रियों को अहम विभाग देकर ईनाम दिया था। वहीं मुख्यमंत्री ने उन मंत्रियों के पर भी काटे हैं, जिन पर भ्रष्टाचार के आरोप लगते रहे हैं, पार्टी सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री ऐसे मंत्रियों को मंत्रिमंडल से बाहर करने के मूड में थे, लेकिन अपने जुगाड़ की राजनीति से कुछ मंत्री, मंत्रिमंडल में पुन: स्थान पाने में कामयाब हो गए।

अब मेजर विजय सिंह मनकोटिया द्वारा लगाए गए आरोपों से मुख्यमंत्री अपनी मन की मुराद पूरी कर प्रदेश में भ्रष्टाचार के लगे आरोपों वाले मंत्रियों के मंत्रिमंडल से बाहर कर पाएंगे या नहीं। हालांकि मुख्यमंत्री को इस मामले की अभी कोई जानकारी नहीं है, लेकिन मनकोटिया द्वारा चलाए गए, इस बम से किस मंत्री पर गाज गिरती है, यह समय आने पर ही स्पष्ट हो पाएगा।
हालांकि मनकोटिया ने इस मंत्री पर पॉवरफुल होने का भी दावा किया, इसीलिए मनकोटिया भी सीधे तौर पर मंत्री का नाम लेने से गुरेज करते रहे। हालांकि मनकोटिया ने इसी मंत्री पर तबादलों के नाम पर भारी भरकम राशि ऐेंठने के भी आरोप लगाए और यही आरोप भाजपा सत्ता से बाहर रहने पर कांग्रेस पर लगाती रही है। अब प्रदेश की जनता की नजर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर पर है कि वह अपनी स्वच्छ व ईमानदार छवि को बरकरार रख, मनकोटिया की मांग पर उक्त मंत्री पर लगे आरोपों की जांच करवाने की हिम्मत जुटाकर इस मंत्री को मंत्रिमंडल से बाहर का रास्ता दिखाने में सफल होते हैं या नहीं।

उधर सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि अभी तक मनकोटिया द्वारा की गई पत्रकार वार्ता में लगाए गए आरोपों और मामले की जानकारी उन्हें नहीं है। अगर उनके आरोप तथ्यों पर रहेंगे तो इस पर जांच करने का विचार किया जाएगा।

Post a Comment

0 Comments

आशीष बुटेल के राजनीतिक प्रहार पर प्रवीन कुमार का पलट वार जव प्रदेश में आपदा आई थी तो किशन कपूर एम्स में उपचाराधीन थे