Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

हिमाचल में क्रिप्टो करेंसी का घोटाला 45 करोड़ तक तक पंहुचा

                                                      सुखदेव के झांसे में आकर लगाए करोड़ों

धर्मपुर,रिपोर्ट सोनिका ठाकुर 

क्रिप्टो करेंसी के नाम पर ठगी करने के मास्टर माइंड सुखदेव ने अपने गृह क्षेत्र धर्मपुर में भी कई लोगों से करोड़ों रुपये की ठगी की है। सुखदेव ने सैंकड़ों लोगों को क्रिप्टो करेंसी के नाम पर निवेश करवाया। बाद में उन्हें मूल धन भी वापस नहीं मिल पाया। सुखदेव ने जब क्रिप्टो करेंसी के नाम पर कारोबार शुरू किया तो धर्मपुर में उसका भव्य स्वागत भी हुआ।

यहां लोगों को उसने लुभावने सपने दिखाए और उनकी धनराशि को 11 माह में डबल करने का झांसा दिया। ग्रामीणों को भरोसा दिलासा दिया कि वह स्थानीय है और कहीं भाग कर नहीं जा रहा है। मात्र 11 महीने में अमीर होने की चाह में कई लोगों ने अपनी धनराशि का निवेश कर दिया। शुरुआती दौर में कुछ धनराशि मिलने पर लोगों का रुझान इस ओर अधिक बढ़ गया। सुखदेव के धर्मपुर के कौंसल गांव का होने पर और निवेश पर धनराशि मिलने के बाद लोगों का विश्वास उस पर बढ़ गया।लोगों ने ऋण लेकर भी निवेश किया। हालांकि बाद में जब धनराशि नहीं मिली तो दूसरी वेबसाइट देकर लोगों को काम पर लगाए रखा। इसी तरह दो-तीन साल गुजर गए, लेकिन बाद में लोगों के हाथ कुछ नहीं लगा। राकेश, संदीप, मंजू, अजय कुमार, संजीव कुमार, नवदीप, उदय ने बताया कि सुखदेव की ओर से बड़े प्रभोलन दिए गए और निवेश करने पर 11 महीने में धनराशि डबल करने की गारंटी तक दी गई। स्थानीय होने पर लोगों ने उस पर विश्वास कर लिया और झांसे में आए। 

क्रिप्टो करेंसी के नाम पर ठगी के शिकार हुए लोग अब धीरे-धीरे सामने आने लगे हैं। वीरवार को मंडी साइबर पुलिस थाना में 12 के करीब ठगी के शिकार हुए लोग पहुंचे और क्रिप्टो करेंसी के नाम पर हुई ठगी का दुखड़ा अधिकारियों के समक्ष रखा। वीरवार को केवल छह शिकायतें दर्ज हो पाई हैं।थाना में इस पूरे खेल के मास्टर माइंड सुखदेव निवासी धर्मपुर के सहपाठी ने भी ठगी की शिकायत दर्ज करवाई है। मढ़ी के निर्मल शर्मा ने पुलिस को सौंपी शिकायत में बताया है कि सुखदेव उसका सहपाठी रह चुका है। उसने अपने रिश्तेदारों के अलावा लोगों से धनराशि ली और सुखदेव को देता रहा। निर्मल शर्मा ने शिकायत में बताया कि 30 लाख रुपये सुखदेव को दिया है।

हिमाचल में क्रिप्टो करेंसी का घोटाला 45 करोड़ तक तक पहुंच गया। आने वाले दिनों में ये आकड़ा बढ़ भी सकता है। अभी तक इस मामले में दो लोगों की गिरफ्तारी को चुकी है। बताया जा रहा है कि हिमाचल के सात और लोगों ने क्रिप्टो करेंसी के नाम पर लोगों को करोड़ों का चूना लगाया है। जल्दी इनकी गिरफ्तारियां होगी। वहीं एसआईटी की एक टीम उत्तर प्रदेश बिहार गई है। आरोपियों को पकड़ने के लिए दूसरे राज्य की पुलिस का भी सहयोग लिया जा रहा है।सूत्रों की मानें तो क्रिप्टो करेंसी स्कैम का किंगपिन सुभाष शर्मा है। हालांकि पुलिस के हत्थे चढ़ने से पहले ही वह फरार विदेश फरार हो गया है। ऐसे में अब उसे स्वदेश लाने के लिए इंटरपोल से एसआईटी संपर्क साध सकती है। पकड़े गए दोनों आरोपियों सुखदेव और हेमराज से एसआईटी की टीम ने वीरवार को लंबी पूछताछ की। ये दोनों 5 दिन की पुलिस रिमांड में चल रहे है।





Post a Comment

0 Comments

काले कपड़े पहन फीस वृद्धि के खिलाफ अभाविप का अनोखा प्रदर्शन