Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

बाल विज्ञान कांग्रेस बच्चों की वैज्ञानिक सोच को कर रही विकसित: पठानिया

                             चंद्रयान-3 टीम में रहे इसरो के वैज्ञानिक रजत ने भी किया बच्चों का मार्गदर्शन

धर्मशाला,रिपोर्ट नेहा धीमान 

 बाल विज्ञान कांग्रेस वैज्ञानिक सोच को बढ़ावा देती है और इसका उद्देश्य बच्चों में विज्ञान के प्रति अधिक से अधिक रुचि पैदा करना है। यह उद्गार राजकीय उत्कृष्ट वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला शाहपुर में 31 वें जिला स्तरीय चिल्ड्रन साइंस कांग्रेस कार्यक्रम का शुभारंभ करने के उपरांत प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए दी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार सरकारी शैक्षणिक संस्थानों में आधारभूत संरचना को सुदृढ़ कर रही है तथा बच्चों के सर्वांगीण विकास के लिए खेलकूद, सांस्कृतिक तथा बाल विज्ञान प्रतियोगिताओं को बढ़ावा दिया जा रहा है ताकि बच्चों को भविष्य बेहतर हो सके।

विधायक केवल सिंह पठानिया ने कहा कि वर्तमान सरकार व्यवस्था परिवर्तन के ध्येय के साथ आगे बढ़ रही है। राज्य सरकार द्वारा प्रशासनिक ट्रिब्यूनल को बहाल करने का सराहनीय फैसला भी लिया गया है इससे कर्मचारियों को बेहतर सुविधा मिलेगी। इस अवसर पर विधायक केवल पठानिया ने नन्हे वैज्ञानिकों द्वारा बनाये गए  प्रोजेक्ट के मॉडलों की प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया ।इसरो के वैज्ञानिक रजत अवश्थी ने बाल वैज्ञानिकों को सम्बोधित करते हुए कहा कि साइंस को अपनी जिंदगी का हिस्सा बना लें।हर चीज को साइंस के नजरिए से देखें। वैज्ञानिक तौर पर एनलाइसिस करें ।सफलता और विफलता जिन्दगी के दो पहलू हैं ।सफल इंसान वही है जो अपनी असफलता से सबक लेते हुए मेहनत कर सफलता को फिर से प्राप्त करे ।साइंस हमें कॉज एवं इफेक्ट के बारे में बताती है जिन्दगी में जो कुछ होता है उसके पीछे कोई न कोई कारण अवश्य होता है ।वैज्ञानिक रजत अवस्थी ने कहा कि सही दिशा मे सही मोटिव से काम करने पर आप अवश्य सफल होंगे । सफलता मिलने में में देर हो सकती है पर सफलता मिलेगी अवश्य । चन्द्रयान -2 के असफल होने पर चन्द्रयान-3 सफल हुआ ।  

इस कार्यक्रम में जिला कंगड़ा के दस उपमंडलों के ग्रामीण तथा शहरी परिवेश के  विभिन्न सरकारी तथा प्राइवेट स्कूलों के 680 नन्हे वैज्ञानिक भाग ले रहे हैं ।21 नवम्बर से 23 नवम्बर तक चलने वाले इस कार्यक्रम में साइंस क्विज, साइंस एक्टिविटी कॉर्नर, साइंस मॉडल , साइंटिफिक प्रोजेक्ट रिपोर्ट तथा साइंस स्किट प्रतियोगिताओं में विद्यार्थी भाग लेंगें । इस प्रतियोगिता में छठी से आठवीं तक जूनियर विंग, नवमी से दसवीं तक सीनियर तथा प्लस 1 तथा प्लस 2 के बच्चों को सकेंडरी विंग में रखा गया है ।शाहपुर के एसडीएम करतार चन्द ने अपने संबोधन में कहा कि हम शाहपुर वासियों के लिए गौरव की बात है कि इस तरह का जिला स्तरीय कार्यक्रम यहां पर आयोजित किया जा रहा है ।ऐसे आयोजनों से बच्चों को अपनी प्रतिभा को निखारने में और अधिक मदद मिलती है । उन्होंने बच्चों से नशे से दूर रहने का आह्वान भी किया । स्थानीय स्कूल के प्रधानचार्य अनिल जरयाल ने मुख्यातिथि तथा अन्य आये हुए मेहमानों तथा जिला भर से आये मेहमान बच्चों का स्वागत किया। इस अवसर पर  एटीसी शाहपुर के प्रभारी डॉ रवि शर्मा ने विज्ञान और पर्यावरण बारे विस्तृत जानकारी दी ।




Post a Comment

0 Comments

4 मार्च से ऊना-हरिद्वार ट्रेन सेवा शुरू होगी