Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

एलपीजी उपभोक्ताओं को अब सिलिंडर लेने से पहले डीएसी (डिलिवरी ऑथेंटिकेशन कोड) नंबर जारी होगा

                                              अब ओटीपी बताने पर ही मिलेगा एलपीजी सिलिंडर

कुल्लू,रिपोर्ट ओमप्रकाश ठाकुर 

एलपीजी उपभोक्ताओं को अब सिलिंडर लेने से पहले डीएसी (डिलिवरी ऑथेंटिकेशन कोड) नंबर जारी होगा। यह एक ओटीपी की तरह होगा जिसे बताने पर ही उपभोक्ता को सिलिंडर दिया जाएगा।इंडियन ऑयल कंपनी ने नए नियम जारी किए हैं। कंपनी ने उपभोक्ताओं से आग्रह किया है कि वे अपने मोबाइल नंबर संबंधित गैस एजेंसी में अपडेट करवाएं। इससे पहले पासबुक के आधार पर एजेंसी से सिलिंडर मिलता था। सिलिंडर लेने के लिए डीएसी नंबर की जरूरत नहीं पड़ती थी। 

अब नए नियमों का पालन करवाने के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में गैस एजेंसियां जुट गई हैं।गैस एजेंसियों की ओर से साफ तौर पर कहा गया है कि एलपीजी उपभोक्ताओं को नए नियमों का पालन करना जरूरी है। इंडियन ऑयल कंपनी की ओर से करीब दो महीने पहले इस तरह के आदेश जारी हुए थे।शहरी क्षेत्रों की एजेंसियों में लोगों ने अपने नंबर अपडेट करवाए, लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में चल रही एजेंसियों में कई उपभोक्ताओं ने अपने नंबर गैस एजेंसी में अपडेट नहीं करवाए हैं। कंपनी की सख्ती के चलते कई उपभोक्ताओं को सिलिंडर लेने से वंचित भी होना पड़ सकता है।

इंडियन ऑयल कंपनी ने गाइडलाइन जारी की गई है। अब डीएसी नंबर बताने पर ही सिलिंडर मिल सकेगा। ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को इसकी जानकारी न होेने के कारण लोगों ने अपने नंबर एजेंसी में अपडेट नहीं करवाए हैं। रसोई गैस सिलिंडर की बिना रुकावट सेवा के लिए उपभोक्ताओं से मोबाइल नंबर अपडेट करने को कहा गया है।इंडेन गैस के कुल्लू में करीब 25,000 उपभोक्ता हैं। अभी तक सिर्फ 20 फीसदी उपभोक्ता ही मोबाइल लिंक करवा पाए हैं। इस योजना का मकसद सिलिंडर सही उपभोक्ता तक पहुंचाना और कालाबाजारी रोकना है। इससे डिजिटल बुकिंग को बढ़ावा मिलेगा। सिलिंडर मिलने के बाद मैसेज भी आएगा, जिसमें वे अपनी बात भी रख सकते हैं।





Post a Comment

0 Comments

4 मार्च से ऊना-हरिद्वार ट्रेन सेवा शुरू होगी