Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

एचआरटीसी डिपो धर्मपुर को चले हुए दो वर्ष हो गए, लेकिन अभी तक इस डिपो को अपनी वर्कशाप नहीं मिली

                                           बारिश हो या धूप,खुले में काम करने के लिए मैकेनिक मजबूर

मंडी,ब्यूरो रिपोर्ट 

 एचआरटीसी डिपो धर्मपुर को चले हुए दो वर्ष हो गए, लेकिन अभी तक इस डिपो को अपनी वर्कशाप नहीं मिली है। नतीजतन खुले में ही वर्कशाप का कार्य चला हुआ है। यहां वर्कशाप के लिए डिपो से मात्र कुछ ही दूरी पर जगह का चयन किया गया है। जिस पर परिवहन विभाग की ओर से चारदीवारी लगाई गई है। यहां वर्कशाप का शिलान्यास पूर्व मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने किया है, लेकिन इसके बाद इस वर्कशाप के लिए कोई बजट का प्रावधान नहीं हुआ है। इसके कारण मैकेनिकों को खुले में ही गाड़ियों को ठीक करना पड़ रहा है और यह सभी कार्य बस अड्डे में ही चला हुआ है। बस अड्डे पर इसके कारण अकसर जाम जैसी समस्या बनी रहती है।

धर्मपुर बस अड्डे से प्रतिदिन 43 गाड़ियां अपने अपने गंतव्य की ओर निकलती हैं। सबसे अधिक परेशानी बारिश होने पर होती है। रूट में जाने वाली गाड़ी खराब हो जाए तो फिर उसे बारिश में ही ठीक करके रूट पर भेजना पड़ता है। धर्मपुर डिपो में कुल 56 गाड़ियां हैं जिनमें केवल छह ही गाड़ियां नई हैं और बाकी सभी गाड़ियां पुरानी ही हैं। अगर यहां वर्कशाप का निर्माण हो जाता है तो फिर सही तरीके से गाड़ियों की मरम्मत की जा सकती है और उन्हें रूटों पर भेजा जा सकता है। सही तरीके से गाड़ियों की रिपेयर नहीं हो पाने से जगह जगह गाड़ियां खड़ी हो रही हैं, जिससे यात्रियों को परेशानी झेलने को मजबूर होना पड़ रहा है।इस बारे में एचआरटीसी डिपो धर्मपुर के आरएम नरेंद्र शर्मा से बात की गई तो उन्होंने कहा कि वर्कशाप के लिए जगह का चयन हो गया है। इसके निर्माण के लिए प्रक्रिया चली हुई है। उच्च अधिकारियों को इसके बारे में अवगत करवा दिया है। बजट का प्रावधान होते ही यहां वर्कशाप का कार्य शुरू कर दिया जाएगा।





Post a Comment

0 Comments

4 मार्च से ऊना-हरिद्वार ट्रेन सेवा शुरू होगी