Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

जिला काँगड़ा के होली-उतराला सड़क के लिए बजट की दरकार

            इस बहुप्रतीक्षित सड़क को विधायक प्राथमिकता के तहत नाबार्ड के सौजन्य से बनाया जा रहा है

धर्मशाला,रिपोर्ट मोनिका शर्मा 

 जिला चंबा के होली से कांगड़ा के उपमंडल बैजनाथ के अंतर्गत आते उतराला के लिए सड़क का कार्य दोनों ओर से चल रहा है। अगर इस प्रोजेक्ट को तीन से चार साल के भीतर पूरा करना हो तो इसके लिए करीब 65 करोड़ बजट की दरकार है। इस बहुप्रतीक्षित सड़क को विधायक प्राथमिकता के तहत नाबार्ड के सौजन्य से बनाया जा रहा है। चंबा के होली से सुराई (जालसू पास) तक 39.500 किलोमीटर का क्षेत्र लोनिवि जोन कांगड़ा के अंतर्गत, जबकि सुराई पास से उतराला तक 23.500 किलोमीटर का क्षेत्र लोनिवि मंडी जोन के अंतर्गत आता है। होली से इलाके वाली माता तक करीब 17 किलोमीटर सड़क का निर्माण पहले हो चुका है।

इसके आगे चन्नी में 40 मीटर लंबे पुल का निर्माण और तीन किलोमीटर सड़क निर्माण का कार्य भी प्रगति पर है। लेकिन आगे 22.500 किलोमीटर सड़क निर्माण के लिए 46.50 करोड़ रुपये की डीपीआर लोनिवि मंडी स्थित मुख्य अभियंता के माध्यम से सरकार को भेजी गई है। इसकी स्वीकृति मिलना अभी बाकी है। इसी तरह सुराई पास से उतराला तक 23.500 किलोमीटर सड़क निर्माण के लिए 19.08 करोड़ रुपये की डीपीआर भी लोनिवि जोन धर्मशाला के माध्यम से सरकार को भेजी गई है। यह प्रोजेक्ट नाबार्ड के माध्यम से पूरा होना है। होली से उतराला सड़क के बनने से दो जिलों के बीच की दूरी सड़क से 83 किलोमीटर रह जाएगी। जबकि वर्तमान में बैजनाथ से होली वाया गगल-शाहपुर-नूरपुर-चंबा होली तक लगभग 250 किलोमीटर के बीच है। होली उतराला सड़क बनने से 167 किलोमीटर के करीब दूरी कम होगी। इससे जहां यात्रियों का समय बचेगा वहीं किराये के रूप में भी बचत होगी। साथ ही होली से बैजनाथ के बीच कई अनछुए पर्यटक स्थल भी विकसित होंगे जिससे रोजगार की संभावनाएं बढ़ेंगी।

इस सड़क के निर्माण की बात वर्ष 1998 में तत्कालीन मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल की सरकार में शुरू हुई। तब यहां से भाजपा के विधायक दूलो राम ने इस मुद्दे को विस में उठाया। सरकार ने पांच करोड़ रुपये के बजट को स्वीकृति देकर उतराला से सड़क के कार्य को शुरू करवाया लेकिन बाद में बजट के अभाव में यह प्रोजेक्ट सिरे नहीं चढ़ सका। पिछले 17 वर्षों में प्रदेश सरकार यहां लोक निर्माण विभाग के माध्यम से इस सड़क की कई बार डीपीआर तैयार करवा चुकी है। सुरंग निर्माण को लेकर भी संभावनाएं तालाशी जा रही हैं।चंबा के होली से उतराला के लिए प्रस्तावित सड़क का मामला विभाग के ध्यान में है। जितना बजट मिला है, उसके तहत कांगड़ा और चंबा दोनों ओर से सड़क का कार्य चल रहा है। अभी 65 करोड़ के करीब अतिरिक्त बजट की आवश्यकता है। मुख्यमंत्री सुखविंद्र सिंह सुक्खू ने भी इस प्रोजेक्ट के बारे में जानकारी हासिल की है। निश्चित रूप से इस प्रोजेक्ट को निर्धारित समयावधि के भीतर पूरा किया जाएगा।




Post a Comment

0 Comments

प्रदेश में एक साल में पुलिस ने गाडिय़ों के चालान से सरकारी खजाना भर दिया