Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

अगर नूरपुर से गुलेर के लिए रेल सेवा शुरू नहीं की तो 19 जनवरी को दिल्ली के जंतर-मंतर में धरना-प्रदर्शन दिया जाएगा

                       18 तक नूरपुर के लिए रेल न चलाई तो 19 को जंतर-मंतर पर देंगे धरना : विश्वकर्मा

काँगड़ा,रिपोर्ट नेहा धीमान 

अगर रेलवे विभाग ने 18 जनवरी तक नूरपुर से गुलेर के लिए रेल सेवा शुरू नहीं की तो 19 जनवरी को दिल्ली के जंतर-मंतर में धरना-प्रदर्शन दिया जाएगा। यह बात बुधवार को नवभारत एकता दल के प्रदेशाध्यक्ष पीसी विश्वकर्मा ने धर्मशाला में आयोजित प्रेसवार्ता के दौरान कही। 

उन्होंने कहा कि करीब छह माह से कांगड़ा घाटी में रेल सेवाएं बंद पड़ थीं, लेकिन लोगों और एकता दल की ओर से जगह-जगह प्रदर्शन करने के बाद रेल को जोगिंद्रनगर से कांगड़ा तक शुरू किया गया है, लेकिन अभी भी नूरपुर और गुलेर के लोगों को इसकी सुविधा नहीं मिल पा रही है, जबकि वहां के अधिकतर लोग इसी पर निर्भर हैं।

बुधवार को पहले उन्होंने कचहरी अड्डा में प्रदर्शन किया और इसके बाद सहायक आयुक्त सुभाष गौतम के माध्यम से रेल मंत्री को ज्ञापन भेजा और मांग की है कि कांगड़ा घाटी पर जल्द नूरपुर और गुलेर तक गाड़ियां चलाई जाएं। उन्होंने कहा कि छह माह से रानीताल और ज्वालामुखी के बीच कोपड़ लाहड़ में 200 से 300 मीटर रेलवे मार्ग क्षतिग्रस्त है, जिसे आज दिन तक ठीक नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि चक्की रेलवे पुल का कार्य भी धीमी गति से चला है।

 उन्होंने कहा कि बरसात से पहले पठानकोट स्थित चक्की पुल की मरम्मत के लिए खर्च किए गए 40 करोड़ रुपये की जांच की जाए। इसके अलावा उन्होंने मांग की है कि पौंग बांध में इको सेंसेटिव जोन की स्थिति को स्पष्ट किया जाए कि वहां के लोग क्या कर सकते हैं और क्या नहीं। इस मौके पर सुभाष शर्मा, डॉ. संजीव गुलेरिया और पंकज चौधरी मौजूद रहे।


Post a Comment

0 Comments

प्रदेश में एक साल में पुलिस ने गाडिय़ों के चालान से सरकारी खजाना भर दिया