Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

जिला ऊना में सुबह के साथ अब रात के समय भी घनी धुंध लोगों को परेशान करने लगी

                                                 सर्द मौसम लगा सताने, खेतों में गेहूं की फसल लगी मुरझाने

ऊना,रिपोर्ट अविनाश चौहान 

जिला ऊना में सुबह के साथ अब रात के समय भी घनी धुंध लोगों को परेशान करने लगी है। सुबह धुंध के साथ चलने वाली शीतलहर ने लोगों का घर से निकलना मुश्किल कर दिया है। वहीं, शाम को लोगों के लिए घर लौटना भी चुनौतीपूर्ण बन चुका है। हालांकि दोपहर को निकलने वाली धूप से लोगों को राहत मिल रही है। वहीं, घने कोहरे के कारण खेतों में गेहूं की फसल भी मुरझाने लगी है।

जिला ऊना में सोमवार को न्यूनतम तापमान 1.4 डिग्री, जबकि अधिकतम तापमान 16 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। सुबह के समय घनी धुंध के बीच दृश्यता 50 मीटर तक सीमित रही। ऐसे में वाहन चालकों को लाइट जलाकर बेहद धीमी गति से वाहनों को चलाना पड़ा। दोपहर 12 बजे के आसपास कुछ देर के लिए धूप खिली तो लोग भी राहत पाने के लिए घरों और कार्यस्थलों से बाहर निकले। मगर एक घंटे बाद फिर बादल छा गए और शाम पांच बजे के बाद फिर से दोबारा धुंध की चादर बिछने लगी।

ध्यान रहे कि जिले के अधिकतम और न्यूनतम तापमान में 14 डिग्री से आसपास का अंतर चल रहा है। तापमान के भारी अंतर के चलते लोगों को सेहत से जुड़ी समस्याएं आ रही है। बच्चों में खांसी, छाती में जकड़न, दस्त, उल्टी से जुड़े मामले लगातार सामने आ रहे हैं। वहीं बुजुर्ग लोगों में जोड़ दर्द, खांसी, बुखार आदि के मामले बढ़ते जा रहे हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने धुंध के बीच लोगों को घर से बाहर न निकलने की हिदायत दी है।

उधर, मौसम विशेषज्ञ विनोद शर्मा ने बताया कि क्षेत्र में मौसम की स्थिति कुछ दिन इसी प्रकार बनी रहेगी। हालांकि बारिश की संभावना भी बनी हुई है। कहा कि बारिश हुई तो कुछ दिन धुंध से राहत मिलेगी।बारिश न होने और लगातार कोहरा और धुंध छाए रहने से गेहूं के फसल पर भी मौसम की मार पड़ने लगी है। क्षेत्र में लंबे समय से बारिश नहीं होने से अब खेतों में गेहूं की फसल मुरझाने लगी है। जिला में 60 प्रतिशत गेहूं की फसल बारिश पर निर्भर करती है। ऐसे में लंबे समय से बारिश न होने से किसानों की चिंताएं भी बढ़ने लगी हैं।



Post a Comment

0 Comments

चंबा जिला के सीमांत क्षेत्रों में पुलिस बलों को किया अलर्ट