Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

49 वर्ष की उम्र में 5वीं बार टिकट प्राप्त अनुराग ठाकुर को

                                        49 वर्ष की उम्र में अनुराग ठाकुर को पांचवीं बार टिकट, राजपूत वोटों पर नज़र
हमीरपुर , ब्यूरो रिपोर्ट 

49 वर्षीय केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर भाजपा के टिकट पर अपना पांचवां लोकसभा चुनाव लड़ेंगे। यह पांचवीं बार है कि हाईकमान ने उन पर भरोसा जताया है। भाजपा 1998 से हमीरपुर संसदीय सीट पर है। उनके पिता प्रेम कुमार धूमल पहले भी इस सीट से तीन बार सांसद रहे हैं। राजपूतों का बहुमत हमीरपुर सीट पर है। 


कांग्रेस के ओबीसी नेता नारायण चंद पराशर को छोड़कर इस सीट पर राजपूत नेता ही सांसद हैं। 14 लाख लोगों वाले इस क्षेत्र में लगभग सवा पांच लाख राजपूत हैं, जबकि लगभग तीन लाख ब्राह्मण हैं। तीन लाख से अधिक एससी और सवा दो लाख ओबीसी वोटर हैं। यहां राजपूत नेताओं ने अभी तक चुनाव भाजपा के टिकट पर लड़े हैं। भाजपा ने एक बार फिर जातीय समीकरण को साधने की कोशिश की है। 


मोदी सरकार में उनका प्रदर्शन और संसदीय क्षेत्र में शुरू की गई कई नई योजनाएं अनुराग ठाकुर को पांचवीं बार टिकट मिलने की एक बड़ी वजह हैं।  2019 में मोदी सरकार के सत्ता में आने पर उन्हें पद मिलने का अनुमान लगाया गया था। उन्हें ज़िम्मेदारी तो दी गई, लेकिन पूरी तरह से कोई मंत्रालय नहीं मिला; इसके बजाय, उन्हें केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री की भूमिका दी गई। उन्हें इस पद पर बेहतर काम करने की बदौलत मोदी कैबिनेट के विस्तार में सूचना प्रसारण और खेल एवं युवा सेवाएं जैसे महत्वपूर्ण मंत्रालय सौंपे गए। 


अनुराग ठाकुर का जन्म 24 अक्तूबर 1974 को हमीरपुर के गांव समीरपुर में पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल और उनकी पत्नी शीला धूमल के घर हुआ था। उनकी प्रारंभिक शिक्षा जालंधर के दयानंद मॉडल स्कूल से हुई थी, फिर दोआबा कॉलेज जालंधर से बीए की पढ़ाई की। 2002 में अनुराग ने पूर्व लोक निर्माण मंत्री ठाकुर गुलाब सिंह की बेटी शैफाली ठाकुर से शादी की। 49 वर्षीय अनुराग ठाकुर अब पांचवां चुनाव लड़ेंगे। वह चुनावी राजनीति में अभी भी अजेय रहे हैं। 2008 में उन्होंने अपना पहला उपचुनाव जीता था। 


उन्होंने उपचुनाव जीतने के बाद लगातार तीन आम चुनाव जीते हैं। उनका यह लगातार पांचवां चुनाव हमीरपुर में भाजपा के टिकट पर होगा। मोदी सरकार ने दो महत्वपूर्ण मंत्रालयों को सौंप दिया है। वह भी भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रहे हैं। विश्व के सबसे अमीर क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के अध्यक्ष अनुराग ठाकुर पिछले दो वर्षों से पद पर रहे हैं। हमीरपुर संसदीय क्षेत्र से पांचवीं बार मुझे भारतीय जनता पार्टी का लोकसभा प्रत्याशी बनाने पर पार्टी के शीर्ष नेतृत्व का हार्दिक आभार व्यक्त करता हूँ। केंद्रीय और राज्य के नेतृत्व के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा को धन्यवाद देता हूँ। 

हम मानते हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की राष्ट्रवादी नीतियों और उनके नेतृत्व में केंद्र सरकार की उपलब्धियों से हम लोगों के बीच जाएंगे। हिमाचल प्रदेश की सभी चार सीटें जीतकर 400 पार के लक्ष्य में राज्य का योगदान सुनिश्चित करेंगे। यद्यपि अनुराग ठाकुर 32 वर्ष की उम्र में लोकसभा में पहुंच गए, लेकिन 2011 में भाजयुमो के राष्ट्रीय अध्यक्ष के राष्ट्रीय एकता यात्रा से उन्हें राष्ट्रीय राजनीति में पहचान मिली। 

वह प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष रहते हुए धर्मशाला क्रिकेट स्टेडियम को लेकर राजनीति में उभरा। 2011 में, उन्होंने कोलकाता से श्रीनगर के लाल चौक की तिरंगा यात्रा की अगुवाई करके राष्ट्रीय राजनीति में एक अलग पहचान बनाई। अनुराग ठाकुर ने सांसद के रूप में नई योजनाओं से लोगों को जोड़ने की कोशिश की है, लेकिन कई चुनावों में चर्चा का विषय बन चुके हमीरपुर ऊना रेलवे लाइन का वादा अभी तक पूरा नहीं हुआ है। इसके अलावा, हिमाचल प्रदेश में रेलवे विस्तार के लिए बजट का लक्ष्य पूरा नहीं हुआ है। 

हाल ही में कुछ नई ट्रेन शुरू हुई हैं, लेकिन उम्मीदों के अनुरूप अभी नहीं चल रही हैं। सांसदीय क्षेत्र में एक से श्रेष्ठ, खेल महाकुंभ और सांसद स्वास्थ्य मोबाइल योजना जैसे कई कार्यक्रमों का आयोजन किया गया है। भारत के उप राष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने अपने हमीरपुर दौरे के दौरान इन योजनाओं की प्रशंसा करते हुए अन्य सांसदों से कहा कि वे इन्हें अपनाना चाहिए। सांसद के रूप में अपने चार कार्यकाल में क्षेत्र में नई योजनाओं को लागू करने और हर काम को पार्टी में बखूबी करने के कारण टिकट मिलता है।

Post a Comment

0 Comments

बिलासपुर में हादसा, खाई में गिरी कार