Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

55 की उम्र में दिव्या ने किया 50 वा पदक अपने नाम

                                        जिंदगी की भागदौड़ ने एक मैराथन रनर बनाया: 55 की उम्र में दिव्या ने 50 पदक जीते

काँगड़ा , ब्यूरो रिपोर्ट 

55 की उम्र में लोग जिंदगी की भागदौड़ से थककर आराम करना चाहते हैं, लेकिन दिव्या विशिष्ठ (55) मेडल बटोरने में लगी हुई हैं। 45 की उम्र में दौड़ना शुरू करने वाली दिव्या अब तक 50 मेडल देश-प्रदेश और विदेश में जीत चुकी हैं। अब भी वे उत्साहित हैं। 


दिव्या हौसले के बल पर मुश्किलों को मात देते हुए अंतरराष्ट्रीय फलक पर भारत का नाम रोशन करने में भी लगातार जुटी हैं। खास बात यह है कि दिव्या दफ्तर और घर दोनों में काम करती हैं। किसी प्रेरणा से कम नहीं है हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले के धर्मशाला के निकटस्थ घरोह लांझणी गांव की दिव्या। 


दिव्या बताती हैं कि उन्होंने 13 साल पहले बंगलूरू में जिम ज्वाइन किया था, दोनों काम और जिंदगी की भागदौड़ के बीच। उस समय, ट्रेनर ने कहा कि दौड़ना चाहिए था। दौड़ने का लक्ष्य एक्टिव रहना था, फिटनेस नहीं। लेकिन दौड़ते-दौड़ते बचपन का धाविका बनने का सपना कब पूरा हो गया? पिछले दस साल में, वह 91 से अधिक नामी लंबी दूरी की मैराथन में भाग ले चुकी है। 


हाल ही में दिव्या ने कांगड़ा हेरिटेज अल्ट्रा रन में 75 किलोमीटर की दौड़ 11 घंटे 40 मिनट में पूरी कर महिलाओं में पहला स्थान हासिल किया है। दिव्या ने लगभग नौ साल अमेरिका, कनाडा और बंगलूरू में काम किया था, लेकिन अब छह साल से लांझणी में रह रही हैं। एमएनसी कंपनी का काम फ्राम यहीं से चलता है। दिव्या ने कहा कि उन्होंने दौड़ने के लिए सप्ताह में तीन दिन निर्धारित किए हैं। 


मंगलवार और वीरवार को 15 से 15 किमी और शनिवार को 20 से 25 किमी की दौड़ होती है। एक या दो दिन पहले 100 किमी दौड़ भी लेती हैं अगर कोई प्रतियोगिता होती है। दिव्या ने कहा कि दौड़ ने मुझे जीवन में खुशी दी है और मुझे एक्टिव बनाया है। अब भागने की जरूरत नहीं है। अभ्यास करना स्वस्थ और एक्टिव रहने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। उनका कहना था कि युवाओं को कभी भी ज्यादा विश्वास नहीं करना चाहिए। 

उसे कार्रवाई करनी चाहिए। समय के बारे में कभी नहीं सोचना चाहिए। यदि लक्ष्य है तो पूरा करना चाहिए। चाहे वह 10 किमी या 50 किमी का हो। 2014 में बंगलूरू में 10 किमी दौड़ में महिलाओं में पहली बार पहला स्थान मिला। 42 किमी की 20 पूर्ण मैराथन में 10 में पहला था। 2018 में, वे 42 किमी माउंट एवरेस्ट मैराथन में भारतीय वर्ग में पहली थीं; 2016 और 2022 में, वे खडदुंगला चैलेंज में 72 किमी सीनियर वर्ग में विजेता थीं; और 2019 में, वे गढ़वाल-नडुरंस रेस में 161 किमी (100 मील) की सबसे कठिन दौड़ में विजेता थीं। 

नौ डिग्री तापमान में 31 घंटे 8 मिनट में दो पुरुष धावकों के बाद दिव्या ने देवभूमि को गौरवान्वित करते हुए पांच महिलाओं में से एक बनकर मैराथन जीता। 2023 में दिव्या ने उत्तराखंड में 80 किमी की मैराथन में महिलाओं में पहला स्थान हासिल किया। इसके अलावा, वह यूएस, कैलिफोर्निया और दक्षिण अफ्रीका में 90 किमी कॉमरेड अल्ट्रा रन में भाग लिया है। 

Post a Comment

0 Comments

शुरतंग नाले में भूस्खलन की चपेट में आई घटना