Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

नेहा नेगी: रामपुर खंड की पहली महिला एचएएस, ट्रक चालक के बेटे ने भी पास की परीक्षा

                    रामपुर क्षेत्र की पहली महिला एचएएस नेहा नेगी बनीं, ट्रक चालक के बेटे ने भी परीक्षा पास की

शिमला , ब्यूरो रिपोर्ट 

एचएएस की प्रारंभिक परीक्षा 1 अक्तूबर, 2023 को हुई, राज्य लोकसेवा आयोग के सचिव देवेंद्र कुमार रतन ने बताया। 13 दिसंबर से 19 दिसंबर, 2023 तक मुख्य परीक्षा हुई थी। 4 से 6 मार्च तक, मुख्य परीक्षा पास करने वाले अभ्यर्थियों के साक्षात्कार लिए गए। उन्होंने बताया कि सात उम्मीदवारों को चुना गया है। 


हिमाचल प्रदेश में सात नए एचएएस अफसर नियुक्त किए गए हैं। अनमोल ने राज्य प्रशासनिक सेवा की संयुक्त परीक्षा 2023 में टॉप किया है, जो राज्य लोकसेवा आयोग ने घोषित की है। मंडी के निवासी अब खंड विकास अधिकारी टुटू हैं। बिलासपुर जिले की श्रीनयनादेवी की हिमानी शर्मा दूसरे स्थान पर हैं। आयोग ने ग्यारह पदों की जांच की थी। एचएएस और एचपीएस के दो-दो पद खाली हैं क्योंकि योग्य उम्मीदवारों की कमी है। 


एचएएस  की प्रारंभिक परीक्षा 1 अक्तूबर, 2023 को हुई, राज्य लोकसेवा आयोग के सचिव देवेंद्र कुमार रतन ने बताया।  13 दिसंबर से 19 दिसंबर, 2023 तक मुख्य परीक्षा हुई थी। 4 से 6 मार्च तक, मुख्य परीक्षा पास करने वाले अभ्यर्थियों के साक्षात्कार लिए गए। उन्होंने बताया कि सात उम्मीदवारों को चुना गया है। हिमानी शर्मा, अनमोल, अनुभव तंवर, कार्तिक डोगरा, करणवीर सिंह, नेहा नेगी और योगेश को एचएएस अधिकारी बनाया गया है। 


रामपुर उपमंडल के घराट सराहन पंचायत की नेहा नेगी अब एचएएस अधिकारी हैं।  रामपुर क्षेत्र में एचएएस की परीक्षा पास करने वाली पहली महिला नेहा नेगी है। केंद्रीय विद्यालय बोंडा सराहन में उनकी प्रारंभिक शिक्षा हुई। नेहा ने शिमला से जमा दो और डीएवी चंडीगढ़ से स्नातक एमए किया। नेहा के पिता मंगल नेगी छत्तीसगढ़ आईटीबीपी में हैं, जबकि उनकी माता लीला नेगी घर पर रहती हैं। 


एचएएस परीक्षा पास करने के बाद, नेहा नेगी ने फोन पर बताया कि वे अपनी खुद की तैयारी कर रही थीं और उन्हें चौथी बार सफलता मिली है। उन्होंने युवा लोगों को प्रेरणा दी कि वे निरंतर प्रयास करते रहना चाहिए। हम सफल होंगे अगर हमें साहस है। बेटी को उसके पिता मंगल नेगी, माता लीला नेगी और चाचा गोविंद नेगी ने बधाई दी है। उपमंडल करसोग के क्यारगी लोअर गांव निवासी योगेश कुमार ने एचएएस परीक्षा में सफलतापूर्वक उत्तीर्ण होकर अपना नाम रोशन किया है। योगेश एक आम परिवार से आते हैं। 

उनकी माता घरेलू काम करती है, जबकि उनके पिता रामलाल ट्रक चलाते हैं। योगेश ने हिमाचल प्रदेश पब्लिक सर्विस कमीशन की परीक्षा बिना कोचिंग के तीसरे चरण में पास की है। उन्होंने इससे पहले भी दो बार परीक्षा पास की थी, लेकिन साक्षात्कार में रह गए। योगेश को विद्या भारती स्कूल करसोग से प्रारंभिक शिक्षा दी गई। 12वीं की पढ़ाई करसोग के मॉडल पब्लिक स्कूल से हुई। धर्मशाला सेंट्रल यूनिवर्सिटी से एमएससी है।  योगेश को घर पर बहुत बधाइयां मिली हैं। 

Post a Comment

0 Comments

लकड़ीनुमा स्लेटपोश में दस कमरों का घर जलकर राख