Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

कैशलेस किराया भुगतान: एचआरटीसी बसों में नई सुविधा की शुरुआत

                            एचआरटीसी बसों में इस दिन से कैश लैस किराया भुगतान की सुविधा शिमला से शुरू होगी

शिमला, ब्यूरो रिपोर्ट 

गुरुवार से हिमाचल पथ परिवहन निगम की बसों में यात्रियों को कैश से किराया भुगतान करने की सुविधा मिलेगी। निगम बसों में अब यात्री नगद के अलावा क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड, यूपीआई और QR कोड स्कैन करके किराया भुगतान कर सकते हैं। राजधानी ई-टिकटिंग मशीन की एक परियोजना शुरू करेगी। पहले शिमला शहर की कुछ बसों में टिकट खरीदने की सुविधा मिलेगी। 


इसके बाद शिमला में सभी बसों में यह सुविधा होगी। निगम इसके बाद राज्य के अन्य हिस्सों में इस योजना को लागू करेगा। एचआरटीसी और भारतीय स्टेट बैंक ने बुधवार को हिमाचल पथ परिवहन कार्यालय में एक समझौता किया। पहले चरण में यूपीआई, डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड से भुगतान किया जाएगा। एचआरटीसी बसों में किराया भी एनसीएमसी कार्ड से भुगतान किया जा सकेगा। 


एचआरटीसी प्रबंध निदेशक रोहन चंद ठाकुर ने कहा कि गुरुवार से निगम की बसों में कैशलैस भुगतान होगा। एचआरटीसी और एसबीआई ने बुधवार को एक समझौता किया है। लोग इससे यूपीआई, क्यूआर, डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड का किराया ले सकेंगे। यह सुविधा एसबीआई के पेमेंट गेटवे से उपलब्ध है। एनसीएमसी कार्ड की सुविधा भी इसके बाद दी जाएगी। इस परियोजना को राजधानी से शुरू किया जाएगा। 


पहले शहरी वातावरण में सुविधा प्रदान की जाएगी। अगले तीन महीने निगम के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं, उन्होंने कहा। निगम का लक्ष्य इन तीन महीनों में अधिकतम डिपूओं में कैशलैस भुगतान की सुविधा शुरू करना होगा। स्टेट बैंक देश भर में किए जा रहे कार्यों से मना करता है, एसबीआई के उत्तरी क्षेत्र चंडीगढ़ के मुख्य महाप्रबंधक विनोद जस्वाल ने कहा। एचआरटीसी को चार हजार पांच सौ मशीनें मिली हैं। 


इनमें यूपीआई, डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड से भुगतान किया जा सकता है। यह सुविधा पेमेंट गेटवे से दी गई है। एचआरटीसी और राज्य बैंक मिलकर हिमाचल प्रदेश की जनता की सेवा करेंगे। एचआरटीसी के महाप्रबंधक पवन महाजन, चंडीगढ़ के उपमहाप्रबंधक प्रभात कुमार, हिमाचल प्रदेश के उपमहाप्रबंधक देवेंद्र संधू, विवेक राहत, लाल सिंह चौहान, विशाल चंदेल और रुद्रदेव शर्मा इस अवसर पर उपस्थित थे। 

Post a Comment

0 Comments

शुरतंग नाले में भूस्खलन की चपेट में आई घटना