Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

मंडी-कुल्लू में सीवेज ट्रीटमेंट प्लांटों की जांच शुरू

                                        मंडी-कुल्लू में भरे पानी के सैंपल की जांच शुरू

मंडी, ब्यूरो रिपोर्ट 

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) ने सीवेज ट्रीटमेंट प्लांटों से निकाले गए पानी के सैंपल ले लिए हैं। मंडी, कुल्लू और शिमला के अलावा राज्य के कई जिलों में सीवेज ट्रीटमेंट प्लांटों से बाहर निकाले गए पानी के सैंपल भी लिए गए हैं। 


सीपीसीबी की टीम ने जोगिंद्रनगर के सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट में भी ट्रीट कर छोड़े गए पानी के सैंपल जांच के लिए भरे हैं। सीवेज ट्रीटमेंट प्लांटों से सटी नदियों में प्रदूषण को कम करने के लिए ये उपाय किए जा रहे हैं। परीक्षण के दौरान, अगर सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांटों से रिसाइकिल कर छोड़े जा रहे पानी की गुणवत्ता में कोई कमी आई, तो एनजीटी कानून के तहत आवश्यक कार्रवाई भी की जाएगी। 


सीपीसीबी की टीम ने मंडी जिला मुख्यालय के दो सीवेज ट्रीटमेंट प्लांटों के सैंपल भी लिए हैं, साथ ही जोगिंद्रनगर की नेरी खड्ड, कुल्लू की ब्यास नदी और शिमला की अश्वनी खड्ड। प्रदेश भर में अन्य सीवेज ट्रीटमेंट प्लांटों की जांच करने के लिए चार-चार सदस्यीय तीन टीमें उतरी हैं। 


जोगिंद्रनगर के सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट में सीपीसीबी टीम के सदस्य अंकित मिश्रा ने बताया कि प्रदेश भर में नदियों में जल प्रदूषण को कम करने के लिए यह जांच शुरू की गई है। आगामी दिशा-निर्देश सैंपलों की रिपोर्ट आने के बाद जारी किए जाएंगें। उधर, विभागीय अधिशासी अभियंता अराध्य ने बताया कि प्रतिदिन ट्रीट किए गए पानी के सैंपल की जांच के बाद ही इसे साथ लगती खड्ड में छोड़ा जाता है। 


Post a Comment

0 Comments

भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष करेंगे प्रदेश भर में तीन चुनावी रैलियां