Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

कैप्टन रंजीत राणा भाजपा के सियासी नेटवर्क से गायब

                            भाजपा के सियासी नेटवर्क से कैप्टन रंजीत राणा की गायबता का पूरा विवरण जानें

हमीरपुर, ब्यूरो रिपोर्ट

भाजपा के पिछले विधानसभा चुनावों में सुजानपुर से चुनाव जीतने वाले कैप्टन रंजीत राणा पार्टी के राजनीतिक नेटवर्क से बाहर हो गए हैं। कैप्टन रंजीत राणा ने पूर्व विधायक राजेंद्र राणा को उपचुनाव में भाजपा से टिकट मिलने से ही असंतोष व्यक्त किया है। 


भाजपा पदाधिकारियों ने उन्हें संपर्क करने की कोशिश की, लेकिन वह फोन नहीं उठा रहे हैं। फोन पर उन्हें प्रत्याशी राजेंद्र राणा से भी संपर्क करने की कोशिश की गई, लेकिन उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। भाजपा हाईकमान द्वारा जिले में कांग्रेस नेताओं को टिकट देने के निर्णय पर पदाधिकारी पार्टी लाइन में रहकर प्रत्याशियों के साथ रह रहे हैं, लेकिन सुजानपुर में कैप्टन रंजीत हमीरपुर को बचाने का नारा देकर चुनावी रण में उतरे हैं।


 भाजपा ने 2022 में पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल के खिलाफ चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया था। वह इस चुनाव में कांग्रेस के प्रत्याशी राजेंद्र राणा से महज 399 मतों से हार गए थे। राजेंद्र राणा ने टिकट मिलने के बाद सेक्टर स्तर की बैठकों में भाग लिया है और पूर्व प्रत्याशी रंजीत राणा से संपर्क करने की कोशिश कर रहे हैं। कैप्टन रंजीत ने चुनाव लड़ने का ऐलान करते हुए जनसंपर्क में भाग लिया है। 


भाजपा जिला अध्यक्ष देशराज शर्मा ने कहा कि कैप्टन रंजीत से बातचीत की गई है। अब तक मैंने उनसे संपर्क नहीं किया है। सभी कार्यकर्ता मिलकर चुनाव में भाग लेंगे।  गत विधानसभा चुनावों में बड़सर में भाजपा से बागी होकर चुनाव लड़ने वाले संजीव शर्मा ने मंगलवार को बिझड़ में दुकान में भाजपा प्रत्याशी इंद्रदत्त लखनपाल से मुलाकात की। लखनपाल ने चुनावों में संजीव शर्मा का समर्थन मांगा है। 


संजीव शर्मा ने समर्थन को लेकर समर्थकों से चर्चा के बाद फैसला किया है। इसलिए, भाजपा से बाहर निकले हुए संजीव शर्मा से संपर्क करने की कोशिशें विफल रही हैं। संजीव शर्मा अभी तक भाजपा में वापस नहीं आए हैं। भाजपा से बाहर निकले हुए संजीव शर्मा ने कहा कि वह अपने समर्थकों से चर्चा के बाद ही बड़सर से भाजपा प्रत्याशी को समर्थन देने का फैसला कर सकते हैं। लोगों ने पिछली बार चुनाव लड़ा था। इस बार भी समर्थकों का निर्णय लागू होगा।

Post a Comment

0 Comments

सतलुज दरिया के तेज बहाव में एक बच्ची हुई दुर्घटना की शिकार