Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

जिला ऊना में प्रचंड गर्मी का दौर चरम पर

                                            पारा 44 डिग्री पार, प्राथमिक स्कूलों में दो दिन और बढ़ाई छुट्टी

ऊना,ब्यूरो रिपोर्ट 

जिला में प्रचंड गर्मी का दौर चरम पर है। रविवार को इस सीजन का सबसे गर्म दिन रहा। पारा 44.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। तेज धूप और लू के थपेड़ों से बचने के लिए लोग रविवार को छुट्टी होने के बावजूद घरों से बाहर नहीं निकले। उधर, जिला प्रशासन ने छोटे बच्चों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए सोमवार और मंगलवार को भी प्राथमिक स्कूल बंद रखने के आदेश दिए हैं। यह सिलसिला बीते सोमवार से जारी है। यानी प्राथमिक स्कूलों में लगातार नौ दिन से छुट्टियों का दौर जारी है।

उधर, नर्सरी से पांचवीं तक स्कूल बंद रखने के बाद अब छठी से 12वीं तक की कक्षाओं को भी गर्मी के मद्देनजर बंद करने की मांग उठी है। हिमाचल प्रदेश स्कूल प्राध्यापक संघ के वरिष्ठ उपाध्यक्ष विकास कुमार रत्त्न ने कहा कि जिला में इस समय लू और तेज धूप का प्रकोप है। कब किसका स्वास्थ्य बिगड़ जाए, अनुमान लगाना मुश्किल है। स्कूलों में आने वाले बच्चे तीखी धूप में घर लौटते हैं, जो कि उनके स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ है। उन्होंने जिलाधीश ऊना से मांग की कि छठी से 12वीं तक की कक्षाओं के लिए भी कम से कम 10 दिन तक छुट्टी घोषित की जाए। उन्होंने कहा एक ओर जहां गर्मी से बच्चे बीमार हो रहे हैं, तो वहीं बिजली के कट से समस्या और गहरा जाती है।

ध्यान रहे कि रविवार इस सीजन का अभी तक का सबसे गर्म दिन रहा है। इससे पहले जिले का अधिकतम तापमान 44.2 दो डिग्री तक पहुंचा था, जबकि रविवार को यह आंकड़ा 44.4 डिग्री तक जा पहुंचा। चिंता की बात यह है कि आने वाले एक सप्ताह तक बारिश के आसार कम हैं। ऐसी स्थिति में तापमान कहां पहुंच सकता है, चिंता का विषय है।उपायुक्त जतिन लाल ने कहा कि जिले में लू के भयंकर प्रकोप से छोटे बच्चों की स्वास्थ्य रक्षा के लिए एहतियातन सभी सरकारी और निजी प्राइमरी और प्री-प्राइमरी स्कूलों को 27 और 28 मई को बंद रखने का फैसला लिया गया है। जिन विद्यालयों में 27 और 28 मई को परीक्षाएं निर्धारित हैं, वहां परीक्षाएं सुबह सात से 11 बजे तक आयोजित होंगी। विद्यालयों में परीक्षा हाल में पेयजल, पंखे, कूलर या एयर कंडीशनिंग जैसी समस्त सुविधाएं उपलब्ध कराने के भी निर्देश दिए गए हैं। विद्यालयों में प्राथमिक चिकित्सा किट और हीट स्ट्रोक के किसी मामले में तुरंत उपचार के लिए डॉक्टर या नर्स की उपलब्धता सुनिश्चित बनानी होंगी।





Post a Comment

0 Comments

आखिर क्यों राशन डिपुओं से हुई चीनी गायब