Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

मैहतपुर सब्जी मंडी में निकासी सही नहीं

                                                 गंदे पानी में सब्जी बेचने को मजबूर हैं किसान

ऊना,ब्यूरो रिपोर्ट 

सोमवार और शुक्रवार को सप्ताह में दो दिन लगने वाली किसान सब्जी मंडी स्थल पर थोड़ी सी बारिश होने पर ही जलभराव की स्थिति पैदा हो जाती है। इस कारण सब्जी बेचने वाले किसानों को बारिश के गंदे पानी के बीच बैठकर अपनी सब्जी की बिक्री करने को मजबूर होना पड़ रहा है। न केवल किसानों, बल्कि ग्राहकों को भी गंदे पानी में ही सब्जी की खरीदारी करते देखा गया है। 

रेहड़ी तथा फड़ी वालों का कहना है कि नगर परिषद सप्ताह में दो दिन सोमवार तथा शुक्रवार को 50 तथा 30 रुपये प्रति रेहड़ी-फड़ी वालों से सब्जी की बिक्री लगाने की एवज में वसूल रही है, लेकिन सब्जी स्थल में जिस प्रकार के सुधार की गुंजाइश होनी चाहिए, वह इस ओर ध्यान नहीं दे रही है। सब्जी की खरीदारी को आने वाले ग्राहकों में विनोद कुमार, नरेश कुमार, शकुंतला देवी, राजकुमार दीपक कुमार, राजीव मेनन सहित अनेक अन्य लोगों ने कहा कि जब इन रेहड़ी फड़ी वालों से सब्जी की बिक्री की एवज में नगर परिषद 50 तथा 30 रुपये की वसूली कर रही है तो ऐसे में इन रेहड़ी-फड़ी वालों के लिए भी सब्जी की बिक्री का उचित बंदोबस्त होना चाहिए, ताकि किसानों को थोड़ी सी बारिश होने पर गंदे पानी के बीच बैठकर अपनी सब्जी की बिक्री को मजबूर न होना पड़े।

मैहतपुर वार्ड दो में किसान सब्जी मंडी में तकरीबन 50 से अधिक रेहड़ी-फड़ी वाले सब्जी फल आदि की बिक्री करते हैं और नगर परिषद इनसे प्रति मंडी करीब दो हजार से अधिक की नकद वसूली कर रही है, जबकि किसानों का कहना है कि सुविधा के नाम पर दो-तीन लाइट्स और एक बिना पानी की सुविधा का शौचालय है। किसानों के साथ-साथ आम जनता ने मांग उठाई है कि नगर परिषद को सब्जी मंडी स्थल में सुधार करने की दिशा में जल्द कदम उठाए जाएं।सब्जी मंडी स्थल तो पक्का है, लेकिन जलभराव की समस्या किस कारण हो रही है। इस बारे में पता लगाकर इसका हल करवाया जाएगा। जरूरत हुई तो लाइट्स भी बढ़ाई जाएंगी।





Post a Comment

0 Comments

भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष करेंगे प्रदेश भर में तीन चुनावी रैलियां