Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

जिला चम्बा में जंगल की आग से जले सेब के पौधे

                                                         निरीक्षण करने नहीं पहुंचा पटवारी

चम्बा,ब्यूरो रिपोर्ट 

 जंगल की आग से सेब के 51 पौधों को पहुंचे नुकसान का आकलन करने के लिए पटवारी मौके पर न पहुंचने के आरोप प्रभावितों ने लगाए हैं।प्रभावितों ने कहा कि 3 जून को चुराह उपमंडल की तीसा-1 पंचायत के गांव खखड़ी के जंगल में शरारती तत्वों ने आग लगा दी थी। दो बागवानों के 51 सेब के पौधे इसकी भेंट चढ़ गए थे। इससे उन्हें लाखों का नुकसान हुआ है। 

पंचायत प्रधान तीसा-प्रथम ने प्रभावित क्षेत्र का निरीक्षण कर संबंधित पटवारी को सूचना दी थी। हालांकि, चुनाव ड्यूटी का हवाला देकर पटवारी ने मौके का दौरा करने की बात कही थी। बावजूद इसके अभी तक पटवारी मौके पर नहीं पहुंच पाया है।खखड़ी जंगल में बीते 3 जून को शरारती तत्वों ने आग लगा दी थी। सूखी घास में आग की चिंगारी ने देखते ही देखते भयंकर रूप धारण कर लिया। जंगल की आग कई किलोमीटर के दायरे में फैल गई। आग से वन संपदा, जीव-जंतुओं के नष्ट होने के साथ खखड़ी निवासी बागवान तेज सिंह पुत्र चंदू राम के 24 सेब के पौधे भी फलों समेत जल गए।

इन पौधों की उम्र 10 से 15 वर्ष थी। बागवान धर्म सिंह पुत्र पुरुषोत्तम के करीब 27 पौधे आग की भेंट चढ़ गए थे। बावजूद इसके राजस्व विभाग से पटवारी 11 दिन बाद भी मौके पर नहीं पहुंच पाया है। उन्होंने तहसीलदार चुराह से मांग की है कि पटवारी को प्रभावित क्षेत्र का निरीक्षण करने के निर्देश दिए जाएं।तहसीलदार राकेश कुमार ने बताया कि पटवारी ने अपने स्तर पर रिपोर्ट वन विभाग को सौंप दी है। प्रभावितों को इसकी जानकारी नहीं है तो संबंधित पटवारी से बात कर सकते हैं। राजस्व विभाग की ओर से प्रभावितों को कोई सहायता राशि नहीं दी जा सकती है। जंगल की आग से नुकसान के एवज में वन विभाग ही सहायता राशि जारी करता है।





Post a Comment

0 Comments

फिर शातिरों ने चली चाल एक युवक से तीन लाख की धोखाधड़ी