Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार ने छोड़ी एस्कार्ट सुविधा, मुख्यमंत्री को लिखा पत्र, कहा चुभता है लाखों का खर्च

पालमपुर, मोनिका शर्मा
पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार ने सुरक्षा में लगी एस्कार्ट गाड़ी और उसमें तैनात कर्मचारियों को वापस कर दिया है। पुलिस विभाग के यह नियमित कर्मचारी उनके साथ ड्यूटी पर लगे थे, जिनको वापस भेज दिया गया है। इस संबंध में शांता कुमार ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को पत्र लिखा है और कहा कि उन्हें एस्कार्ट की जरूरत नहीं है।


अब वह सांसद भी नहीं है, लिहाजा उन्हें एस्कॉर्ट की कोई जरूरत नहीं है। शांता कुमार के पास अब स्टाफ में उनका कार्यालय चलाने के लिए दो कर्मचारी रहेंगे। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्रियों के आवास में स्टाफ के कर्मचारी, गार्द व एस्कॉर्ट की सुविधा प्रदान की जाती है। उनका कहना है कि वह ज्यादा कहीं बाहर नहीं जाते और अब वह सांसद भी नहीं है। बेवजह से पुलिस के यह कर्मचारी उनके साथ रहें यह उनको अच्छा नहीं लग रहा था, लिहाजा उन्होंने सीएम को पत्र लिखकर आग्रह किया था कि इसे हटा दिया जाए। सुरक्षा के लिहाजा से गार्द व स्टाफ के दो कर्मचारी उनके लिए पर्याप्त हैं।

शांता कुमार का कहना है कि एक सरकारी गाड़ी तथा कर्मचारी बिना काम के यहां होते हैं। लाखों रूपए का यह खर्च उन्हें चुभता रहता है। अब उन्हें यह सुविधा बिलकुल नहीं चाहिए। उन्होंने चाहा है कि यह सुविधा पहली जुलाई से ही वापस ले ली जाए।

बता दें कि शांता कुमार की सुरक्षा में एस्कार्ट गाड़ी, व पांच पुलिस कर्मी रहते हैं। वह जहां कहीं भी बाहर जाते हैं, तो एस्कॉर्ट उनकी गाड़ी के आगे चलती है, मगर शांता कुमार ने इसे छोड़ दिया है। एस्कॉर्ट में उनके साथ जो कर्मचारी थे, वह पुलिस विभाग के रेगुलर कर्मचारी हैं। इनके स्टाफ में सेवाविस्तार पाए कर्मचारी अभी भी तैनात हैं।

Post a Comment

0 Comments

करोना योद्धा समाजसेवी बाबा त्रिलोक नाथ को राजधानी शिमला में मिला देवभूमि अचीवर अवॉर्ड