Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

नगर परिषद पालमपुर काे वर्ष 2020-21 का वजट पारित

हाउस टैक्स में बढ़ाेतरी, 9.5 की जगह 12 प्रतिशत की दर से हाेगा निर्धारण
गत वर्ष से लगभग 60 लाख रुपये अधिक हाेगा बजट



  • पालमपुर 12 अगस्त,कुलदीप राणा

  • नगर परिषद पालमपुर की बैठक में वित्तीय वर्ष
    2020-21 के लिए वजट पारित किया है। इस वर्ष के वजट में आय से अधिक व्यय दर्शाया गया है। हालांकि बैठक में इस घाटे को नए वित्तीय वर्ष में आय बढ़ाकर कम करने की रूपरेखा तैयार की है। बजट में किसी नए कर का प्रावधान नहीं है, अपितु गृह कर की दर काे 9.5 प्रतिशत से बढ़ाकर सरकार से निर्धारित 12 प्रतिशत की दस से बसूला जाएगा।। नए बजट में इस वर्ष विभिन्न
    मदों के तहत 3,61,13,700 रुपये की अाय तथा 4,65,96,000 रुपये की राशि विभिन्न मदों पर व्यय की जाएगी।




नगर परिषद अध्यक्ष राधा सूद ने बताया कि वर्ष 2020-21 के लिए बजट प्लान को अंतिम रूप देकर सर्वसम्मति से पारित किया गया है।


इतने रुपये हाेंगे खर्च


नए वजट में सबसे अधिक एक करोड 93 लाख 50 हजार रुपये की धनराशि विकास कार्यों तथा रखरखाव पर खर्च की जाएगी। जबकि स्थापना तथा कर्मचारियों के
वेतन पर 1,29,86,000 रुपये, सैनिटेशन पर 57,25,000 रुपये, पेयजल आपूर्ति तथा रखरखाव पर 29 लाख 85 हजार रुपये की धनराशि का प्रावधान है। स्ट्रीट लाइटाें व रखरखाव के लिए 45 लाख रुपये रखे गए हैं। इसी से ही विद्युत विभाग में लंबित विद्युत बिलाें की अदायगी भी की जाएगी। नगर परिषद ने वाहनों के रखरखाव, डीजल-तेल आदि तथा नए वाहन की खरीद के लिए भी 11 लाख 30 हजार रुपये की धनराशि का प्रावधान किया है। वहीं अन्य मदों पर 9 लाख 05 हजार रुपये की धनराशि प्रस्तावित की है।

यह अाएगी अाय


नगर परिषद ने इस वित्त वर्ष सबसे अधिक 57 लाख 65 हजार रुपये की अाय गृहकर के रूप में जुटाने का निर्णय लिया है जाे पिछले वर्ष की अपेक्षा लगभग 14 लाख रुपये अधिक रहेगी। नगर परिषद की अाेर से वर्तमान में गृहकर 9.5 प्रतिशत की दर से वसूला जा रहा है जाे अब प्रदेश सरकार की अाेर से निर्धारित 12 प्रतिशत की दर से वसूला जाएगा। नगर परिषद में काेराेना महामारी के दाैरान लाॅकडॉउन के चलते हाेटल व गेस्ट हाउस में तीन माह का
हाउस टैक्स माफ किया गया है वहीं पार्किंग स्थलों के वर्तमान संचालकों को भी तीन माह की अतिरिक्त अवधि के लिए पूर्व निर्धारित निलामी के आधार पर ही पार्किंग स्थलों के संचालन में छूट देने का निर्णय लिया है।
डोर-टू-डोर कचरा इकत्रीकरण के अंतर्गत स्वच्छता कर के रूप में इस बार 13,35,500 रुपये की आय जुटाने का प्रावधान है। वहीं नगर परिषद की विभिन्न परिसंपत्तियों से 52 लाख 50 हजार रुपये तथा तय बाजार के रूप में 11 लाख 25 हजार रुपये, पेयजल आपूर्ति शुल्क के 92 हजार 500 रुपये तथा अन्य विभिन्न मदों से अाठ लाख रुपये जुटाने की रूपरेखा तैयार की है। जबकि नगर
परिषद काे उपायुक्त के माध्यम से ग्रांट-इन-एड के रूप में 61 लाख, नगर विकास निदेशालय से एक कराेड़ 10 लाख रुपये, आबकारी राजस्व के रूप में 9 लाख रुपये तथा जमा पूंजी से 19,50,000 रुपये ब्याज के रूप में अाय जुटाने का लक्षय निर्धारित किया है।

Post a Comment

0 Comments

भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष करेंगे प्रदेश भर में तीन चुनावी रैलियां