Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

सुलह कांग्रेस कार्यकारिणी की घोषणा को लेकर उठने लगे सवाल

आरोप न ही सभी वर्गों को शामिल किया गया न कार्यकर्ताओं को



  • पालमपुर 2 अगस्त,प्रवीण शर्मा
    सुलाह में  कांग्रेस कार्यकारिणी की घोषणा को लेकर सवाल उठने शुरू हो गए हैं। जबकि ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष ने सभी आरोपों को नकारते हुए इसे केवल मात्र कुछ लोगों को नाकामी की वजह से कार्यकारिणी में स्थान न मिलने पर उनके द्वारा अपनी भड़ास निकालना करार दिया है।  




हिमाचल प्रदेश कांग्रेस किसान सेल प्रदेश महासचिव संदीप ठाकुर ने कहा कि अभी हाल ही में  सुलाह ब्लॉक कांग्रेस कार्यकारिणी घोषित होने से कांग्रेस कार्यकर्ताओं में भारी रोष है।  क्योंकि जो कार्यकारिणी घोषित की गई है उसमें न सुलाह चुनाव क्षेत्र के सभी क्षेत्र के कार्यकर्ताओं को शामिल किया गया है और न ही सभी वर्गों को शामिल किया गया है ।

आरोप लगाया कि इसमें राजपूतों, ओबीसी और अनुसूचित जाति के लोगों की सीधे-सीधे अनदेखी की गई है।  यही नहीं कार्यकारिणी में न युवा कांग्रेस न महिला कांग्रेस के लोगों को डाला गया है और न ही क्षेत्र के किसी वरिष्ठ नेताओं से विचार-विमर्श किया गया है। बल्कि यह कार्यकारिणी सिर्फ चुनिंदा लोगों द्वारा एक कमरे में बैठकर कांग्रेस को सुलाह क्षेत्र में खत्म करने का षड्यंत्र रचा गया है ।

उन्होंने कहा कि पूर्व में इन लोगों के नेतृत्व में न पंचायती राज में कांग्रेस जीत दर्ज कर पाई थी और विधानसभा चुनावों में आज तक की भारी हार कांग्रेस को देखनी पड़ी थी। ठाकुर ने कहा है कि   कार्यकारिणी बनाते समय चुनिंदा लोगों ने कांग्रेस के प्रदेश नेतृत्व को गुमराह किया तथा एक बोगस कार्यकारिणी घोषित करवाई जोकि सुलह चुनाव क्षेत्र में कांग्रेस पार्टी को खत्म करने की एक साजिश है। संदीप ठाकुर ने कहा कि वह जल्द ही प्रदेश अध्यक्ष से मिलकर सोनिया गांधी  को एक मेमोरेंडम देंगे तथा इस कार्यकारिणी का विस्तार किया जाएगा तथा क्षेत्र के कांग्रेसियों को तथा पंचायती राज से जुड़े लोगों व युवाओं  तथा महिलाओं को स्थान दिया जाएगा।

उन्होंने कहा कि वर्तमान कार्यकारिणी में अखिल भारतीय कांग्रेस पार्टी के संविधान को भी ठेंगा दिखाया गया है। क्योंकि कांग्रेस पार्टी के संविधान के अनुसार किसी भी कार्यकारिणी में 33,% महिलाएं 20% अनुसूचित जाति के लोग तथा 15% अन्य पिछड़ा वर्ग के लोग होने चाहिए। उन्होंने कहा कि जब से कांग्रेस पार्टी विधानसभा चुनाव हारी है,  तब से लेकर आज तक ब्लॉक कांग्रेस कमेटी सुलह की कोई बैठक नहीं हुई है। जो कि एक निष्क्रियता है तथा निष्क्रिय लोगों को कार्यकारिणी में स्थान दिया गया है ।

क्या कहते हैं ब्लाक अध्यक्ष


उधर इस बारे ब्लॉक कांग्रेस के अध्यक्ष अरुण राणा ने कहा  कि यह सभी आरोप निराधार हैं। उन्होंने कहा कि यह उन लोगों की भड़ास है जो पूर्व में अपने दायित्व को कभी पूरी तरह नही  निभा पाए तथा उनकी निष्क्रियता की बजह से जब उंनको कार्यकरणी में नही डाला गया, तो अब अपनी भड़ास निकाल कर शीर्ष नेतृत्व व जनता को गुमराह कर रहे हैं।  अरुण राणा ने कहा कि कार्यकारिणी  का गठन प्रदेश अध्यक्ष की राय से ब्लॉक अध्यक्ष का एकाधिकार होता है। ऐसे में अगर अपनी भड़ास निकालने के लिए कभी भाजपा के पिछलग्गू लोग ऊपर शिकायत  करने की बात कर रहे हैं, तो पार्टी संविधान के विरुद्ध है।

Post a Comment

0 Comments

भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष करेंगे प्रदेश भर में तीन चुनावी रैलियां