Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

वन मंत्री ने अपने नर्सिंग इंस्टीच्यूट को कोविड केयर सेंटर बनाने की पेशकश की

वन मंत्री ने अपने नर्सिंग इंस्टीच्यूट को कोविड केयर सेंटर बनाने की पेशकश की


उपायुक्त कांगड़ा को भेजा पत्र


 

नूरपुर (संजीव महाजन)

जिला कांगड़ा के नूरपुर में वन, युवा सेवाएं एवं खेल मंत्री राकेश पठानिया ने कोविड़ के बढ़ते मामलों के दृष्टिगत नूरपुर के मलकवाल स्थित अपने परिवार के वीवीएम नर्सिंग इंस्टीच्यूट को कोविड केयर सेंटर बनाने की पेशकश की है। उन्होंने इस संदर्भ में आज सोमवार को उपायुक्त कांगड़ा राकेश कुमार प्रजापति को पत्र प्रेषित किया है। वन मंत्री ने कहा कि इस नर्सिंग इंस्टीच्यूट को कोविड केयर सेंटर बनाने पर प्रबंधन द्वारा 100 विस्तरों सहित 50 प्रशिक्षित नर्सों की नि:शुल्क सेवाएं भी उपलब्ध करवाई जाएंगी।



इसके अतिरिक्त उनके परिवार द्वारा भर्ती हुए मरीजों के लिए भोजन की निःशुल्क व्यवस्था भी उपलब्ध करवाई जाएगी। उन्होंने बताया कि यह इंस्टिच्यूट शहर व भीड़भाड़ से दूर है जो कोरोना संक्रमित मरीजों के शीघ्र स्वास्थ्य सुधार के लिए काफी फायदेमंद सावित होगा।
वन मंत्री ने बताया कि आज पूरा देश कोरोना जैसी इस भयंकर महामारी से निपटने के लिए एकजुट होकर लड़ रहा है। उन्होंने कहा कि संकट के इस समय में मंत्री होने के नाते नहीं, बल्कि एक जिम्मेदार नागरिक होने के नाते उनका तथा उनके परिवार का भी समाज की सेवा में कुछ न कुछ योगदान देना एक नैतिक दायित्व बनता है। गौरतलब है कि गत वर्ष लॉकडाउन के दौरान भी स्वयं राकेश पठानिया तथा उनके परिवार के सदस्य दिन-रात निःस्वार्थ भाव से लोगों की सेवा में जुटे रहे थे। उन्होंने इस दौरान अपने परिवार की ओर से विधानसभा क्षेत्र के जरूरतमंद लोगों के अतिरिक्त अन्य प्रवासी परिवारों को जहां राशन, सैनिटाइजर, मास्क तथा अन्य जरूरी सामान पहुंचाया था, वहीं साथ लगते चम्बा ज़िला के जरूरतमंद लोगों को भी राशन, मास्क व सेनिटाइजर भिजवाए थे। इसके अतिरिक्त उपमंडल में दिन-रात डयूटी पर तैनात पुलिस कर्मियों के लिए उनके परिवार द्वारा भोजन, पीपी किट, सेनिटाइजर तथा फेस शील्ड उपलब्ध करवाई गई थीं।
वन मंत्री ने सभी लोगों से अपील की है कि वे मास्क लगा कर रखें व बेवजह अपने घरों से बाहर न निकलें तथा कोरोना नियमों का सख्ती से पालन कर प्रशासन व सरकार का सहयोग करें।

Post a Comment

0 Comments

लकड़ीनुमा स्लेटपोश में दस कमरों का घर जलकर राख