Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

एक दिन में सुधार देगी सडक की दुर्दशा को राधा स्वामी डेरे की संगत,जो लोगों के लिये बनी है आफत:प्रवीन

पालमपुर, रिपोर्ट
पूर्व विधायक प्रवीन कुमार ने भरोसा तथा विश्वास जताया कि एक दिन में सडक की दुर्दशा को राधा स्वामी डेरे की संगत सुधार देगी। परोर स्थित ओवरहेड रेलवे ब्रिज के नीचे गुजर रहे राष्ट्रीय राजमार्ग  की कारगुजारी गत लंबे समय से चर्चाओं एवं विवादों में है ओर   ऎसी कार्य प्रणाली से जनता बहुत परेशान है। यहां से गुजरने वाले हर राहगीर का पारा इस सड़क की दुर्दशा को देखकर चौथे आसमान पर चढ़ जाता है । यह प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए पालमपुर के पूर्व विधायक प्रवीन कुमार का कहना है कि यहां पहुंच कर हर कोई नेशनल हाईवे अथारटी को कोसता नहीं थकता । वहीं कोसने वाला अपने व्यवहार के बारे में भी नहीं सोचता कि भारी-भरकम भागम भाग के चलते उसके जरा से भी ओवरटेक कर जाने पर दोनों तरफ लम्बी वाहनों की कतारों के बीच उसकी कथित लापरवाही के चलते घंटो जाम लग जाता है । 
पूर्व विधायक ने कहा कि मात्र सो मीटर के करीब लंबे इस टु लेन सड़क के एक तरफा भाग में कंक्रीट बिछा दी है जबकि दूसरे भाग में कंक्रीट बिछाई जा रही है। इस कंक्रीट के एक निर्धारित समय के भीतर पक्का होने का इन्तजार किये बिना ओर पुलिस द्वारा भी यहाँ अपने हाथ खडे दिये जाने पर वाहन चालकों ने वाहन चलाना शुरू कर दिये हैं । 
अव देखना है यहाँ पहले इस ओवरहेड ब्रिज के नीचे अंधाधुंध सडक की खुदाई कर सडक ओर पुल की ऊंचाई का लेबल नापा गया इससे काफी समय तक अत्याधिक  ट्रैफिक बाधित एवं प्रभावित रही । उसके बाद यहाँ  तारकोल विछाई गई जो थोड़े समय के भीतर ही उखड़ गई  । उसके बाद अव इस तरह यह कंकरीट रोड कितने दिन चल पाएगा इसकी मजबूती का इन्तजार रहेगा । पूर्व विधायक ने रहस्योद्घाटन करते हुए कहा कि कोरोना महामारी संकट के चलते दो साल बाद 8-9 अप्रैल को विश्व विख्यात राधा स्वामी डेरे के प्रमुख परोर आ रहे हैं । ऎसे में इस डेरे की संगत का जटिल से जटिल काम करने , सुरक्षा व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने व भारी भरकम भीड को नियन्त्रित करने में एक बहुत बड़ा मिसाल के रुप में उदाहरण दिया जाता है । 
पूर्व विधायक ने आशा व्यक्त करते हुए कहा कि लम्बे समय से सिर दर्द बने राष्ट्रीय राजमार्ग के इस छोटे से टुकड़े का संगत एक ही दिन में  जीर्णोद्धार करेगी ।

Post a Comment

0 Comments

हिमाचल में जंगलों की आग ने पिछले साल का तोड़ा रिकॉर्ड