Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

जोगेंद्रनगर में 20 हजार से अधिक लाभार्थियों को बूस्टर डोज की दरकार, सरकारी अस्पताल कर रहे हैं इन्कार

मंडी जिला में 60 साल से कम आयु के लोगों को बूस्टर डोज की नहीं सुविधा।

जतिन लटावा जोगेंद्रनगर

कोविड शील्ड वैक्सीनेशन की दो डोज लगा बैठे 60 साल से कम आयु के 20 हजार से अधिक लाभार्थियों को मंडी जिला के जोगेंद्रनगर में बूस्टर डोज का लाभ नहीं मिल पा रहा है। सरकारी अस्पताल भी बूस्टर डोज के लिए इन्कार कर रहे हैं। सबसे हैरानी की बात यह है कि बूस्टर डोज कहां लगवाएं इसकी जानकारी भी स्वास्थ्य विभाग के पास नहीं है। ऐसे में रोजाना स्वास्थ्य विभाग के द्वारा चिन्हित वैक्सीनेशन केद्रों से 60 साल से कम आयु के लाभार्थी बूस्टर डोज के बिना ही लौट रहे हैं। करीब 37 हजार से अधिक वैक्सीनेशन की  दो डोज लगा चुके लाभार्थियों में शामिल 60 साल से अधिक की आयु के लोगों, फ्रंटलाईन वर्कर व हैल्थ वर्करों को बूस्टर डोज का लाभ तो मिल रहा है लेकिन इससे कम आयु वाले लोगों को बूस्टर डोज उपमंडल में कहीं भी नहीं लग पा रही है। हालांकि मोबाईल पर रोजाना मैसेज सरकारी अस्पताल में बूस्टर डोज के लिए लाभार्थियों को आ रहे हैं। जबकि चिन्हित वैक्सीनेशन केंद्रों में वैक्सीन लेने पहुंच रहे हैं तो उन्हें बेरंग लौटा दिया जा रहा है। लाभार्थियों के पूछने पर उन्हें यह जवाब मिल रहा है कि उन्हें बूस्टर के चिन्हित केंद्रों की जानकारी नहीं दी गई है। बिडंबना यह है कि स्वास्थ्य विभाग के उच्चाधिकारी भी 60 साल से कम आयु वाले बूस्टर डोज के लाभार्थियों को सही जानकारी नहीं दे पा रहे हैं। हैरानी की बात है कि मंडी जिला में भी 60 साल से कम आयु के लाभार्थियों को बूस्टर डोज के लिए केंद्र ही नहीं चिन्हित हो पाए हैं।

जोगेंद्रनगर अस्पताल में चार माह में महज 1500 लाभार्थियों को ही मिला बूस्टर डोज का लाभ।

मंडी जिला के जोगेंद्रनगर उपमंडलीय अस्पताल में कोविड वैक्सीनेशन की बूस्टर डोज का लाभ अधिक लाभार्थियों को नहीं मिल पाया है। यहां जनवरी माह से अप्रैल माह तक महज 1500 लोगों को ही बूस्टर डोज मिली है। जबकि करीब 38 हजार लोगों को कोविड की पहली व दूसरी डोज लग चुकी है। लडभड़ोल अस्पताल के अलावा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मकरीड़ी व चैंतड़ा में भी 60 साल से कम आयु के लोगों को बूस्टर डोज का लाभ नहीं मिल पा रहा है।

क्या कहते हैं विनय कुमार, खंड चिकित्साधिकारी ब्लाॅक पधर।

60 साल से कम आयु के लाभार्थियों को बूस्टर डोज के लिए कौन से केंद्र चिन्हित किए गए हैं। इसकी जानकारी अभी तक नहीं मिल पाई है। 60 साल से अधिक आयु के लाभार्थियों के अलावा फ्रंटलाईन व हैल्थ वर्करों को बूस्टर डोज का लाभ दिलाया जा रहा है।




Post a Comment

0 Comments

पालमपुर की बेटी प्रणवी सूद ने किया जिले का नाम गर्व से ऊँचा