Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

डॉ लेखराज शर्मा को हस्तरेखा में किए गए शोध कार्यों के लिए दिल्ली में सम्मानित

जोगिंदरनगर ,जतिन लटावा
सीता ज्योतिष एवं वास्तु अनुसंधान केंद्र द्वारा चतुर्थ अंतरराष्ट्रीय ज्योतिष महासम्मेलन का आयोजन 8-5-2022 को दिल्ली पीतमपुरा में हुआ । इस विराट महा सम्मेलन में नामचीन विश्व प्रसिद्ध ज्योतिषियों एचएस रावत ,अनिल वत्स, जय प्रकाश लाल धागे वाले व रमेश सेमवाल ने भाग लिया|  श्री शारदा ज्योतिष निकेतन जोगिंदर नगर से कैप्टन डॉक्टर लेखराज शर्मा भी इस महा सम्मेलन में सम्मिलित हुए, उनको विशेष रूप से आमंत्रित किया गया था। इस सम्मेलन में वास्तु ,टैरो कार्ड ,वैदिक ज्योतिष ,लाल किताब के बारे में तथा पित्र दोष विवाह आदि में देरी, मांगलिक दोष का प्रभाव आदि विषयों पर नामचीन ज्योतिषियों ने अपने अपने वक्तव्य दिए | कैप्टन डॉक्टर लेखराज शर्मा का वक्तव्य विवाहित जीवन पर व कुंडली मिलान पर तथा हस्त रेखा से वैवाहिक जीवन की विवेचना पर था । उन्होंने कहा हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार विवाह रेखा का गहरा और स्पष्ट होना सुखी दांपत्य जीवन का संकेत होता है |हथेली में सबसे छोटी उंगली के नीचे बुध पर्वत पर हथेली के बाहर की तरफ से आने वाली रेखा को विवाह रेखा कहा जाता है हाथ में विवाह रेखा स्पष्ट ना होकर के बीच में से कटी हुई हो तो इससे वैवाहिक जीवन में अड़चन आ सकती हैं ।
 किसी इंसान की हथेली में विवाह रेखा की पहुंच सूर्य रेखा तक हो तो ऐसे इंसान की शादी किसी समृद्ध परिवार में होती है| विवाह रेखा को बुध पर्वत से आने वाली लकीर बीच में ही काट देती है तो शादी से जुड़ी समस्याओं का सामना करना पड़ता है| हस्त रेखा पर दिए वक्तव्य की सभी विद्वान जनों ने प्रशंसा की| डॉ शर्मा को हस्तरेखा में किए गए शोध कार्यों के लिए प्रशंसा पत्र व ट्रोफी से भी नवाजा गया | यह जिला मंडी में विशेष रूप से जोगिंदरनगर क्षेत्र के लिए गौरव की बात है जो हमारे क्षेत्र का नाम ज्योतिष के लिए विश्व के मानचित्र में आ रहा है।

Post a Comment

0 Comments

पालमपुर की बेटी प्रणवी सूद ने किया जिले का नाम गर्व से ऊँचा