Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

हमीरपुर आईटीआई फिर बना हुआ है चर्चा में

                    ना ही डॉक्टर है,ना ही सिक्योरिटी,लेकिन नर्सेज को करनी पड़ेगी हॉस्टल  की ड्यूटी 

ब्यूरो रिपोर्ट हमीरपुर 

हमीरपुर आईटीआई एक बार फिर अपने तुगलगी फरमान के लिए चर्चा में बना हुआ है। इस बार नर्सेज को डॉक्टर और सिक्योरिटी की बगैर ड्यूटी करने का आदेश दिया है। इस मामले में एनआईटी प्रबंधन और आउटसोर्स एजेंसी के जिम्मेदारों की अपनी-अपनी दलील है। भर्ती से लेकर हमेशा ही विवादों में रहने वाले एनआईटी हमीरपुर में कर्मचारियों की नियुक्ति को लेकर फिर सवाल उठने लगा है। प्रशासन ने एक तुगलकी फरमान जारी करते हुए एनआईटी हमीरपुर के अस्पताल में कार्यरत नर्सों को हॉस्टल में भी नाइट ड्यूटी करने के आदेश जारी कर दिया। 

एनआईटी हॉस्पिटल में पिछले कई वर्षों से आउटसोर्स पर रखी नर्सों को नियमों के विपरीत ऐसी ड्यूटी करने को बाध्य किया जा रहा. बता दें कि एनआईटी हमीरपुर पर आज तक मेडिकल नेग्लिजेंस के मामले में अदालत में लंबित पड़े हैं, वो भी तब जब उस समय डॉक्टर ड्यूटी पर था। ऐसे में अब बिना डॉक्टर के नर्स को रात्रि समय में हॉस्टल में तैनात करने से मिलने पर सवाल  उठाना सही है। 

अब उसी एनआईटी में बिना डॉक्टर के प्रशासन ने नर्सों को हॉस्टल में नाइट ड्यूटी करने और मरीजों को दवाइयां देने को कहा जा रहा है। स्वास्थ्य के क्षेत्र में नियमों के अनुसार कोई भी नर्स बिना डॉक्टर के परामर्श से किसी भी मरीज को दवाई नही दे सकती, और नर्सेज की नाइट ड्यूटी मात्र हॉस्पिटल में पूरे सिक्योरिटी स्टाफ और डॉक्टर की मौजूदगी में लगाई जा सकती है। 



Post a Comment

0 Comments

जिला कुल्लू में नशा कर पछताईं वायरल वीडियो वाली लड़कियां