Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

देेश के विद्यार्थियों का बेहतर स्वास्थ्य अत्यंत जरूरी: डा विनोद पॉल

                                            स्कूल स्वास्थ्य कार्यक्रम का होगा उन्नयन और सुधार

धर्मशाला,रिपोर्ट नेहा धीमान 

स्वास्थ्य मंत्रालय और नीति आयोग विद्यार्थियों की स्वास्थ्य देखभाल की समीक्षा, सुधार और उन्नयन के लिए मिलकर काम कर रहे हैं। स्कूल स्वास्थ्य कार्यक्रम को और भी प्रभावी बनाया जाएगा। विद्यार्थियों का बेहतर स्वास्थ्य अत्यंत जरूरी है। यह उद्गार नीति आयोग के सदस्य डा विनोद पॉल ने शुक्रवार को धर्मशाला के एनआईसी के सभागार में स्कूल स्वास्थ्य एवं कल्याण कार्यक्रम को प्रभावी बनाने के लिए कांगड़ा जिला प्रशासन, स्वास्थ्य अधिकारियों, शिक्षकों तथा महिला बाल विकास विभाग के अधिकारियों के साथ आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए व्यक्त किए। इस बैठक में स्कूल स्वास्थ्य कार्यक्रम के बारे में फीडबैक ली तथा इस कार्यक्रम को बेहतर बनाने के लिए सुझाव भी मांगे।

उन्होंने कहा कि स्कूल हेल्थ प्रोग्राम में स्वास्थ्य, पौषाहार शिक्षा, हेल्थ चेकअप, बच्चों का मानसिक स्वास्थ्य और परामर्श, योगा, स्वास्थ्य की दृष्टि से विद्यालय का वातावरण, फर्स्ट ऐड, एक्यूट केयर जैसे प्रमुख बिंदुओं को शामिल किया गया है इनका बेहतर कार्यान्वयन सुनिश्चित करना जरूरी है इस के लिए शिक्षकों, स्वास्थ्य विभाग को सामूहिक प्रयास करने जरूरी हैं। विद्यार्थियों की आवश्यकताओं के अनुरूप स्कूल स्वास्थ्य कार्यक्रम का प्रभावी कार्यान्वयन सुनिश्चित किया जाएगा ताकि युवा पीढ़ी स्वस्थ होकर देश की प्रगति और खुशहाली के लिए अपना योगदान सुनिश्चित कर सके।  

स्कूल स्वास्थ्य कार्यक्रम का उद्देश्य प्रत्येक छात्र का शारीरिक मानसिक और भावात्मक रूप से अधिक से अधिक स्वास्थ्य का विकास करना है। विद्यालय प्रशासन के द्वारा इस ओर अधिक ध्यान दिया जाना चाहिए जिससे छात्र स्वस्थ जीवन यापन के साथ निरोगी रह सकें। इस कार्यक्रम के माध्यम से कुपोषित और एनीमिक बच्चों की पहचान सहित बच्चों और किशोरों में बीमारियों का जल्दी पता लगाना और उनका इलाज सुनिश्चित हो सकेगा।

शिक्षकों ने माना कि स्मार्ट फोन और इंटरनेट जैसी लत से बच्चों को दूर करने के लिए अभिभावकों को भी अहम भूमिका निभानी होगी। बच्चों की समस्याओं को दूर करने के लिए संवाद बहुत जरूरी है तथा इस के लिए स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत प्रभावी कार्ययोजना तैयार की जाए ताकि बच्चे खुलकर अपनी बात रख सकें। इसके साथ ही खान पान को लेकर भी बच्चों को जागरूक करने के लिए कदम उठाना जरूरी हैं। बैठक में विद्यालय की कैंटीन में स्वास्थ्यवर्धक खाद्य सामग्री रखने जैसे विषयों पर भी विस्तार से चर्चा की गई।इससे पहले उपायुक्त डा निपुण जिंदल ने मुख्यातिथि का स्वागत करते हुए कहा कि कांगड़ा जिला में स्कूल स्वास्थ्य कार्यक्रम के प्रभावी कार्यान्वयन के लिए कारगर कदम उठाए जा रहे हैं।




Post a Comment

0 Comments

फिर शातिरों ने चली चाल एक युवक से तीन लाख की धोखाधड़ी