Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

मिलवां अनाज मंडी में बना मोबाइल स्टोरेज यूनिट: डीसी

                            500 मीट्रिक टन बढ़ेगी भंडारण क्षमता, स्थानीय किसान होंगे लाभांवित

धर्मशाला,रिपोर्ट नेहा धीमान 

जिला कांगड़ा के इंदौरा ब्लॉक में स्थित अनाज मंडी मिलवां में अनाज के सुरक्षित भंडारण के लिए एक मोबाइल स्टोरेज यूनिट का निर्माण किया गया है। उपायुक्त कांगड़ा डॉ. निपुण जिंदल ने बताया कि नई दिल्ली में प्रदेश सरकार की सलाहकार नंदिता गुप्ता के विशेष प्रयासों से यह स्टोरेज यूनिट यहां निर्मित हुआ है। उन्होंने बताया कि इस स्टोरेज यूनिट का उपयोग क्षेत्र के कृषक अपने उत्पाद और अनाज को स्टोर करने के लिए कर सकेंगे। उन्होंने बताया कि इस मोबाइल स्टोरेज यूनिट के निर्माण में लगभग 38 लाख रूपये व्यय किए गए हैं। 

उन्होंने बताया कि वर्ल्ड फूड प्रोग्राम ने इसके निर्माण के लिए 25 लाख रूपये व्यय करके जिला प्रशासन को निःशुल्क कनवास उपलब्ध करवाया। इसकी इंस्टालेशन भी वर्ल्ड फूड प्रोग्राम के द्वारा की गई। उन्होंने बताया कि भंडारण यूनिट के आधार के निर्माण के लिए जिला प्रशासन और एपीएमसी द्वारा 13 लाख रूपये खर्च किए गए हैं। उन्होंने बताया कि खंड विकास कार्यालय इंदौरा के माध्यम से इसका निर्माण करवाया गया।

बकौल उपायुक्त, इसके निर्माण के लिए नई दिल्ली में प्रदेश सरकार की सलाहकार नंदिता गुप्ता ने स्वयं इसकी पहल की। उन्होंने बताया कि नंदिता गुप्ता ने अनाज मंडी मिलवां में किसानों की इस जरूरत का स्वतः संज्ञान लेते हुए, इसके निर्माण में रूचि दिखाई। डीसी ने बताया कि नंदिता गुप्ता ने भारत सरकार और वर्ल्ड फूड प्रोग्राम के समक्ष इस विषय को गंभीरता से रखा और बहुत कम समय में इसके निर्माण की स्वीकृति दिलवाई।

डीसी ने बताया कि अनाज मंडी मिलवां में निर्मित इस भंडारण यूनिट की क्षमता 500 मीट्रिक टन है। उन्होंने बताया कि जिला प्रशासन के अथक प्रयासों से वर्ष 2022-23 में मिलवां अनाज मंडी प्रारंभ हुई थी। उन्होंने कहा कि यहां निर्मित गोदाम तथा अन्य ठोस स्ट्रक्चर में अब तक 600 मीट्रिक टन अनाज के भंडारण की क्षमता थी। उन्होंने बताया कि कईं बार फसल अधिक होने की वजह से अनाज को बाहर खुले में रखना पड़ता था, जिससे उसके खराब होने का खतरा बना रहता था। उन्होंने बताया कि इस मोबाइल स्टोरेज यूनिट के निर्माण के बाद मिलवां में अब कुल 1100 मीट्रिक टन अनाज को स्टोर किया जा सकेगा।

डॉ. निपुण जिंदल ने बताया कि जिला कांगड़ा में तीन अनाज मंडियों के माध्यम से किसानों के अनाज का उपार्जन और भंडारण किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि फतेहपुर में 400 मीट्रिक टन, रियाली में 600 मीट्रिक टन और मिलवां में 1100 मीट्रिक टन अनाज के भंडारण करने की क्षमता है। उन्होंने बताया कि आगामी 3 अक्तूबर से प्रारंभ होने वाले खरीफ विपणन सीज़न में क्षेत्र के किसान इसका पूरा लाभ उठा सकेंगे।





Post a Comment

0 Comments

जिला कुल्लू में नशा कर पछताईं वायरल वीडियो वाली लड़कियां