Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

शिमला में कूड़ा शुल्क का भुगतान करने के बावजूद हजारों उपभोक्ताओं को फिर से कूड़े के हजारों रुपये के बिल जारी

                  शिमला में भुगतान के बाद फर्जी आईडी से फिर हजारों लोगों को मिले बिल, जांच शुरू

शिमला,रिपोर्ट नीरज डोगरा 

हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में कूड़ा शुल्क का भुगतान करने के बावजूद हजारों उपभोक्ताओं को फिर से कूड़े के हजारों रुपये के बिल जारी हो रहे हैं। कई लोगों को उनकी खाली पड़ी जमीन के नाम से भी कूड़े के बिल जारी कर दिए हैं। नगर निगम आयुक्त ने शिकायतें आने के बाद मामले पर जांच शुरू करवा दी है। तीन सदस्यीय जांच कमेटी में नगर निगम के लेखा अधिकारी, निगम स्वास्थ्य अधिकारी और वेटरनरी पब्लिक हेल्थ ऑफिसर को शामिल किया है। यह कमेटी जांच करेगी कि आखिर उपभोक्ताओं को फर्जी बिल कैसे आ रहे हैं।

सॉफ्टवेयर में इसे कैसे ठीक किया जा सकता है। शहर में कई भवन मालिकों के नाम से दो से तीन फर्जी आईडी बन गई हैं। हर आईडी से अब उन्हें बिल जारी हो रहे हैं। परेशान उपभोक्ता अपने बिल भुगतान की रसीदें लेकर नगर निगम दफ्तर पहुंच रहे हैं। यहां रसीदें दिखाने के बाद नगर निगम रिकॉर्ड और सॉफ्टवेयर से यह फर्जी आईडी हटाई जा रही हैं। कई उपभोक्ताओं को उनकी जमीनों के कूड़ा बिल भी जारी किए जा रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ लोगों का कहना है कि एमसी अब अलग-अलग दिन सूखा और गीला कूड़ा उठा रहा है। इससे गीला कूड़ा घरों में पड़ रहता है जिससे दुर्गंध फैली रहती है। लोगों ने मांग की हर रोज घरों से सूखा और गीला कचरा उठाया जाए। नगर निगम के डोर टू डोर गारबेज कलेक्शन योजना से शहर में करीब 60 हजार लोग जुड़े हैं। इन्हें नगर निगम हर माह कूड़े का बिल जारी करता है। साल 2019 में नगर निगम ने कूड़ा बिल की व्यवस्था ऑनलाइन की थी। इसमें हर उपभोक्ता की एक अलग आईडी बनाई गई है जिसके जरिये उसे यह बिल जारी होता है। लेकिन इस सॉफ्टवेयर में एक उपभोक्ता के नाम की कई आईडी बन रही है। इन सब पर बिल भी जारी हो रहे हैं। पहले भी इसकी शिकायतें आ चुकी हैं।





Post a Comment

0 Comments

आदित्य राणा सपैडू व काजल कपूर पट्टी ( चन्दरोपा ) ने किया पालमपुर का नाम रोशन