Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

कोरोना के नए वैरिएंट से मरीज बेखौफ

                      साथ ही सर्दी-जुकाम के संदिग्ध मरीजों की सैंपलिंग की भी एडवाइजरी जारी की है

काँगड़ा,रिपोर्ट नेहा धीमान 

कोरोना के नए वैरिएंट जेएन-1 को लेकर स्वास्थ्य विभाग ने अस्पतालों में आने वाले मरीजों और तीमारदारों को एहतियातन तौर पर मास्क पहनने की अपील की है। साथ ही सर्दी-जुकाम के संदिग्ध मरीजों की सैंपलिंग की भी एडवाइजरी जारी की है। लेकिन अस्पतालों में आने वाले मरीज बैखौफ होकर बिना मास्क पहुंच रहे हैं। हालांकि अब तक प्रदेश सहित जिले में कोई भी नए वायरस से संबंधित मामला नहीं है, लेकिन कहीं यह गलतियां स्वयं पर ही भारी न पड़ जाएं !कोरोना के नए वायरस से बचाव को लेकर स्वास्थ्य विभाग की तैयारियों को जांचने के लिए मंगलवार को सुबह सवा नौ बजे संवाददाता ने जोनल अस्पताल धर्मशाला का दौरा किया। 

संवाददाता ने पाया कि अस्पतालों में रविवार और सोमवार को क्रिसमस के अवकाश के बाद सुबह 9.25 बजे पर्ची काउंटर पर लोग लंबी कतारें लगाकर बिना मास्क बैखौफ अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं। जबकि करीब 9.30 बजे नेत्र ओपीडी के बाहर भी मरीज बिना मास्क के डाक्टर से चेकअप करवाने के लिए इंतजार कर रहे हैं। हालांकि स्वास्थ्य विभाग की ओर से मास्क पहनने की अपील कर रहे विभाग के अपने कर्मी भी बिना मास्क के ही अस्पताल में घूमते दिखे। सुबह 10:06 बजे मेडिसन विभाग की ओर जाने वाली सीढ़ियों पर प्रशिक्षु नर्सें और 10:07 बजे अस्पताल में दाखिल हो रहे सुरक्षा कर्मियों के मुंह से भी मास्क गायब दिखे। 

ऐसे में स्वास्थ्य विभाग की अपील का असर न तो मरीजों और तीमारदारों पर दिख रहा है और न ही विभाग के कर्मचारियों पर यह लापरवाही गंभीर साबित हो सकती है।मुख्य चिकित्साधिकारी कांगड़ा डॉ. सुशील कुमार शर्मा ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग की ओर से सर्दी-जुकाम के संदिग्ध मरीजों की सैंपलिंग को लेकर निर्देश जारी किए गए हैं। हालांकि प्रदेश सहित जिले में अब तक एक भी मामला नए वैरिएंट से संबंधित सामने नहीं आया है।अस्पताल खांसी-खांसी जुकाम के संदिग्ध मरीजों की टेस्टिंग शुरू कर दी गई है। हालांकि स्वास्थ्य विभाग की ओर से अस्पताल में आने वाले मरीजों को एहतियात के तौर पर मास्क पहनना जरूरी है।



Post a Comment

0 Comments

सात एचपीएस अधिकारियो को पुलिस अधीक्षक का रूप मे नियुक्ति