Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

एचआरटीसी में प्रमोशन फर्जीवाड़े का लगाया आरोप

सातवी पास को बना दिया वर्क्स मैनेजर


परिवहन मजदूर संघ द्वारा पर्दाफाश किए जाने के बाद उसे थमाया शो कॉज नोटिस
शिमला 7 जुलाई,प्रवीण शर्मा
एचआरटीसी चंबा में लाखों के फर्जीवाड़े की जांच के दौरान परिवहन मजदूर संघ ने एचआरटीसी में पदोन्नति के फर्जीवाड़े का पर्दाफाश किया है ।



जिसमें सातवी पास को सेवा शर्तों के पूरा किए बिना ही मुख्य कार्यालय शिमला से लॉकडाउन के बीच में ही 23 मई 2020 को पदोन्नत करके पालमपुर में वर्क्स मैनेजर तैनात कर दिया गया ।



इस विषय पर आरोप लगाते हुए हिमाचल प्रदेश परिवहन मजदूर संघ के प्रदेश अध्यक्ष शंकरसिंह ठाकुर ने फर्जीवाड़े में तथाकथित आरोपियों के विरुद्ध कार्रवाई की मांग की है। उन्होंने आरोप लगाया कि प्रताप चंद 29 जून 1982 को एचआरटीसी पालमपुर में वर्कशॉप मजदूर के रूप में भर्ती हुआ था । जिसे 1987 में वर्कशॉप हेल्पर बनाया गया । उसके बाद समय-समय पर उसे फिटर, मकैनिक, हेड मैकेनिक, फोरमैन की पद्धतियां मिलती रही ।



उन्होंने कहा कि वर्क्स मैनेजर की पदोन्नति के लिए उसके पास अन्य सेवा शर्तों के इलावा शैक्षिक योग्यता भी नहीं थी लेकिन एचआरटीसी प्रबंधन की मिलीभगत से उसे निजी लाभ देने के लिए लॉकडाउन के बीच में ही वर्क्स मैनेजर की पदोन्नति प्रदान कर दी ।
परिवहन मजदूर संघ के प्रदेश अध्यक्ष शंकर सिंह ठाकुर ने तथ्य जुटाने के बाद गलत तरीके से प्रदान की गई पदोन्नति का पर्दाफाश किया । उसके बाद 6 जुलाई 2020 को प्रबंध निदेशक यूनुस खान ने प्रमोशन पाने वाले प्रताप चंद्र को शो कॉज का नोटिस जारी कर दिया । जबकि विभागीय पदोन्नति समिति की बैठक के बाद उक्त पदोन्नति को प्रबंध निदेशक ने ही अप्रूव किया है । संघ के प्रदेश अध्यक्ष शंकर सिंह ठाकुर ने एचआरटीसी के प्रबंध निदेशक पर प्रहार करते हुए प्रश्न किया कि वर्क्स मैनेजर की पदोन्नति पाने के लिए जब उक्त कर्मचारी के पास शैक्षिक योग्यता के साथ फोरमैन के रूप में सेवा शर्तों के अनुसार 6 वर्ष का कार्यकाल ही नहीं था तो उसे 23 जुलाई 2020 को लॉकडाउन में ही गलत तरीके से पदोन्नति प्रदान करने की क्या मजबूरी थी ? उन्होंने आरोप लगाया कि निगम के प्रबंध निदेशक यूनुस खान मुख्य कार्यालय में भ्रष्टाचारियों को संरक्षण और गलत कार्यों को अंजाम देकर प्रदेश के मुख्यमंत्री और परिवहन मंत्री की छवि को भारी नुकसान पहुंचाने की कोशिश कर रहे हैं । उन्होंने कहा कि जिन गलत कार्यों का परिवहन मजदूर संघ ने पूर्व कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में प्रचंड विरोध किया था प्रबंध निदेशक जानबूझकर उन्हीं गलत कार्यों को बढ़ावा देकर प्रदेश सरकार की छवि को धूमिल करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं । प्रदेश सरकार द्वारा जनहित और कर्मचारी हित में लिए गए दर्जनों निर्णयों की महत्वपूर्ण फाइलों को जानबूझ कर दबाया जा रहा है । जिससे प्रदेश सरकार की छवि प्रभावित हो और परिवहन कर्मचारियों में प्रचंड आक्रोश पनप सके ।
शंकर सिंह ठाकुर ने कहा कि परिवहन मजदूर संघ एचआरटीसी में एक सशक्त पहरेदार की भूमिका निभाता रहा है ।

भ्रष्टाचार किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा ! जिसके लिए उन्होंने कहा कि मेरे सहित संघ के अनेक कार्यकर्ताओं को इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ी है और आज भी प्रबंध निदेशक पूरे प्रदेश में संघ के अनेक कार्यकर्ताओं को चुन चुन कर प्रताड़ित करने और डराने में जुटे हुए हैं । उन्होंने कहा कि एचआरटीसी में आज एक सशक्त, इमानदार और मुखर प्रशासन की आवश्यकता है ! जबकि प्रबंध निदेशक की देखरेख में एचआरटीसी मुख्यालय भ्रष्टाचार का सबसे बड़ा अड्डा बन गया है । उन्होंने प्रदेश सरकार को इस गंभीर परिस्थिति से निपटने के लिए कारगर कदम उठाने में अब कोई देरी नहीं करनी चाहिए ।

इस विषय पर जब प्रबंध निदेशक यूनुस खान से फोन पर बात करनी चाही तो कई बार फोन करने पर भी उन्होंने फोन नहीं उठाया। जिसके कारण उनसे संपर्क नहीं हो सका।

Post a Comment

0 Comments

सात एचपीएस अधिकारियो को पुलिस अधीक्षक का रूप मे नियुक्ति