Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

इन्साफ संस्था के माध्यम से इन्साफ की पुकार , गोली काण्ड में मारे गये हिमाचल सपूत की घरवाली को नौकरी दे सरकार


  • पालमपुर 26 जुलाई,मोनिका शर्मा
    यह विचार उस दुखी बाप ने पुत्र वियोग का ढाढस वन्धवाने उनके घर पहुँचे पालमपुर के पूर्व विधायक प्रवीन कुमार के साथ व्यक्त किए ।


 

उल्लेखनीय है कि 20 दिन पहले पालमपुर विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम पंचायत हंगलोह के निहायत शरीफ, मिलनसार, अति मेहनती मृदुभाषी एस एस वी के ए एस आई संदीप कुमार उम्र 40 वर्ष जिसकी कि शराफत का पूरा गाँव गवाह है । 6 जुलाई को जम्मू कश्मीर के पुलगांव कोर्ट कम्पलैक्स में डयूटी पर तैनात सिपाही हेमंत शर्मा निवासी गाजियाबाद ने अपनी राइफल से गोलियाँ चला कर हत्या कर दी और उसके बाद खुद को भी गोली मारकर अपने प्राण दे दिए । छम छम आंसू बहाते रूंधे गले से पूर्व विधायक से बाप ने कहा मेरे बेटे ने कमांडेंट या डिप्टी कमांडेंट बनकर सेवानिवृत्त होना था।
मृतक संदीप के पिता परमानंद ने हेरानगी व्यक्त करते हुए कहा कि पुलगांव कोर्ट कॉम्पलेक्स में तीन तीन सुरक्षाबलों सी आर पी एफ , जम्मू कश्मीर पुलिस व सशस्त्र सीमा बल( एस एस वी ) के तैनात होने के बावजूद भी कायर ने मेरे बेटे के ऊपर गोली चला दी ।
पूर्व विधायक को संजीव कुमार के पिता ने बताया कि जिस निर्दयी ने गोली मारी है वह सीनाजोर था इससे पहले भी इसकी हरकतों के चलते इसके विरुद्ध कडा संज्ञान लिया जा चुका है बावजूद इसके इसे फिर इतने महत्वपूर्ण स्थल पर यहाँ तैनात किया गया था । इन्साफ संस्था के अध्यक्ष के माध्यम से परमा नन्द ने हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से इस गोलीकांड की निष्पक्ष जांच पड़ताल के हस्तक्षेप की मांग की है और साथ ही आग्रह किया है कि मेरा बेटा हिमाचल का सपूत है अगर कोई उग्रवादी गोली मारता तो बेटा शहीद कहलाता । ऐसे में हिमाचल सरकार मेरे बेटे को किताब के तौर पर उसकी घरवाली जिसने B.Ed की है इसके दो छोटे छाटे बच्चे हैं उसे जरूर नौकरी देने की कृपा करें ।

  • मुझे शहीद के परिवार से मिलने का मौका मिला तथा शहीद की पत्नी को नोकरी मिले उसके लिये मुख्यमंत्री महोदय से बात की जायेगी

    प्रवीन कुमार पूर्व विधायक पालमपुर।



Post a Comment

0 Comments

आशीष बुटेल के राजनीतिक प्रहार पर प्रवीन कुमार का पलट वार जव प्रदेश में आपदा आई थी तो किशन कपूर एम्स में उपचाराधीन थे