Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

जिलों को लेकर राकेश पठानियाँ के बयान से लोगों में फिर से जगी आस

नवनियुक्त मंत्री राकेश पठानिया ने की है जिलों की वकालत



  • पालमपुर 7 अगस्त, जसवंत सिंह कठियाल
    पालमपुर को जिला बनाने की लम्बे समय से हो रही राजनीति पर अब जनता की निगाहें भाजपा सरकार पर टिकी हैं। विगत विस चुनाव में भी पालमपुर को जिला बनाने की घोषणाओं, वायदों के अनुरूप अब लोगों में पालमपुर को जिला बनाने की आस जगी है। गत दिवस ही जिला कांगड़ा से मंत्री बनाये गए राकेश पठानिया ने भी गगल तथा नूरपुर में जिलों के गठन को लेकर वकालत की है। 




गौरतलब है चुनावी वायदों में भाजपा कांग्रेस दोनों ने जनता से पालमपुर को जिला बनाने का आश्वासन दिया था। ऐसे में भले ही प्रदेश में भाजपा सरकार सत्तासीन हुई । वहीं पालमपुर में कांग्रेस के आशीष बुटेल को विधायक की कुर्सी मिली है तो पालमपुर को जिला बनाने की जनता की आशाएं अब और बढ़ गई हैं।  विस् चुनाव में जिलों के मुद्दे पर  भाजपा कांग्रेस दोनों को जनता को आश्वासन दिया था ।

बताते चलें कि संगठन की दृष्टि से  भी भाजपा कांग्रेस दोनों ने जिलों का निर्माण करवा दिया है। लेकिन अब जनभावनाओं को भी साकार करना वर्तमान सरकार की जिम्मेवारी बनती है।

पालमपुर को जिला बनाने को लेकर कभी राजन सुशांत ने भी जिलों के निमार्ण पर सीएम तक का घेराव की  चेतावनी दी थी। अब पालमपुर की जनता में वर्तमान सत्तासीन भाजपा सरकार से पालमपुर को जिला बनाने की फिर सुगबुगाहट शुरू हो गई है। क्या पालमपुर को जिला बनाया जाता है, यह सबसे बड़ी चुनौती अब भाजपा सरकार के समक्ष है।
बॉक्स

पूर्व में भाजपा सरकार के समय मे 2003 में जाते समय पालमपुर में एडीएम तक को बैठा दिया गया था। लेकिन सत्ता जाते ही फिर एडीएम  गायव हो गए। हर विस चुनाव तथा लोस चुनाव के समय में जिलों के निर्माण का मुददा उछला है लेकिन किसी भी पार्टी ने जिलों के निमार्ण को लेकर गंभीरता नहीं दिखाई  है। पूर्व में भाजपा सरकार के समय में तत्कालिक आईपीएच मंत्री रविन्द्र रवि ने भी पालमपुर को जिला बनाने को लेकर संघर्ष समिति तक का साथ दिया था।

Post a Comment

0 Comments

टकारला में खेत में पड़ा पशुचारा (तूड़ी) जलकर राख