Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

पोस्टर फाड़ने बाले के विरुद्ध एफआईआर नहीं कि गई तो होगा आंदोलन:आप


  • पालमपुर 12 अगस्त,प्रवीण शर्मा
    मंद खड्ड पुल की मांग को लेकर लोगों के साथ भाजपा के कुछ युवा कार्यकर्ता ने जिस तरीके से बूढ़े बच्चे व महिलाओं के साथ बदसलूकी की है उसकी आम आदमी पार्टी निंदा करती है।




उक्त शब्द जिला अध्यक्ष शेर सिंह सुशील कटोच राजकुमार राजेंद्र घोघरा सुंदरलाल गौरव राजेश वर्मा स्कूल अवतार जमवाल मस्तराम अमर सिंह विपन कुमार नरेंद्र शर्मा बचित्तर सिंह विनोद चौधरी भारत ठाकुर सुदेश कुमार ने कहा कि लोग अपनी मांग को लेकर शांति पूर्वक सड़क के किनारे खड़े थे।

उसी दौरान भाजपा के एक कार्यकर्ता ने बच्चों के हाथ मैं लिए पोस्टर फाड़ दिए व धक्का मार कर बच्चों को नीचे फेंक दिया तथा उनको मुख्यमंत्री से मिलने ही नहीं दिया गया। उन्होंने कहा कि लोगों तथा बच्चों की मांग थी की अगर यह पुल बन जाता है तो उनको 11 किलोमीटर का सफर नहीं करना पड़ता। उन्होंने कहा कि बच्चे व स्थानीय लोग 11 किलोमीटर सफल करके अपने कार्य पर पहुंचते है अगर यह पुल बन जाता तो उनका सफर 10 किलोमीटर कम हो जाता पर इस मांग को पूरा नहीं होने दिया गया और नारों के साथ मंत्री का काफिला निकाल दिया गया।

क्या मुख्यमंत्री भाजपा के लोगों के ही हैं आम जनता के भी वे मुख्यमंत्री हैं तथा हर किसी को अपनी बात रखने का अधिकार है पर इस गुंडाराज में लोगों द्वारा रखी गई अपनी मांग को मुख्यमंत्री के सामने नहीं रखने दिया गया तथा उसको पूरी तरह से दबा दिया गया। उन्होंने कहा कि हम स्थानीय विधायक व मुख्यमंत्री से मांग करते हैं कि 70 साल पहले से चली आई इस मांग को पूरा किया जाए तथा जिस शरारती युवाओं ने ऐसा किया है उसके ऊपर एफ आई आर की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर सरकार ऐसा नहीं करती है तो जनता व स्थानीय लोग सड़कों पर उत्तर सकते हैं जहां तक सरकार की बात की जाए तो हिमाचल सरकार कहती है कि 50 लोगों से ऊपर कहीं भी लोग नहीं इकट्ठे होने चाहिए और हमें देखने में आया है कि मुख्यमंत्री के दौरे में 500 से ज्यादा लोग इकट्ठे होते देखे गए हैं । उन्होंने कहा कि क्या गरीब जनता के लिए ही है अमीर और नेताओं के लिए कोई रूल नहीं आम आदमी पार्टी के सब कार्यकर्ता पुल बनाने की मांग करते हैं। उन्होंने मांग की है कि जल्दी से जल्दी मंद खड्ड पुल का निर्माण शुरू किया जाए ताकि यहां के लोगों को खड्ड के बीच से न गुजरना पड़े व अपनी जान पर खेल खेलना न पड़े।

Post a Comment

0 Comments