Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

कोरोना से निपटने में सरकार नाकाम, छिपाए जा रहे मौत के आंकड़े : राठौर

बोले, योग का अविष्कार बाबा रामदेव ने नहीं किया

शिमला,रिपोर्ट

कांग्रेस ने कोरोना से निपटने के लिए केंद्र व प्रदेश की बीजेपी सरकार असफल करार दिया है। कोरोना कफ्र्यू को प्रदेश में सही तरीके से लागू नही किया गया जिसके परिणामस्वरूप इसका व्यापक असर नही हुआ है। सरकार प्रदेश मे मौत के आंकड़ों को छिपा रही है और जिस तरीके से टेस्टिंग व वैक्सीनेसशन होना चाहिए था नही हो रहा है। यह आरोप कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कुलदीप राठौर ने सरकार पर लगाए हैं। कुलदीप राठौर ने कहा कि कोरोना कफ्र्यू का ज्यादा व्यापक असर नही हुआ है। प्रदेश में कोरोना का कहर जारी है। मौत का आंकड़ों में कमी नही आई है। सूचना है कि सरकार मौत का आंकड़ा छिपा रही है। टेस्टिंग की सुविधा लोगों को नही मिल पा रही है। राठौर ने कहा कि आज गांव में टेस्टिंग करने की जरूरत है। वैक्सीनेसशन को बढ़ाने की आवश्यकता है। सरकार के पास वैक्सीन की कमी है। सरकार हर जगह पर फेल हुई है और लोगों की जान बचाने में असफल रही है। बीजेपी व सरकार एनजीओ व दूसरे संस्थानों द्वारा की जा रही मदद के नाम पर वाहवाही लूटने का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि महामारी के दौर में डिप्पो में तेल व दालों का दाम बढ़ाए गए है। इससे लोगों पर महंगाई की मार पड़ी है। सरकार किस तरह से काम करना चाहिए इन्हें मालूम नही है। आरएसएस के लोगों का सरकार पर पूरा प्रभाव है। जिनको शासन व प्रशासन का क,ख,ग पता नही है वह सरकार चलाने की बात कर रहे हैं। जिससे समस्या का समाधान नही हो पा रहा है।



राठौर ने बाबा रामदेव का डॉक्टरों व एलोपैथी पर किए जा रहे जुबानी हमले पर कहा कि उन्हें देश जानता है। दुनिया मे आवुर्वेद व योग का अपना स्थान है। योग आदिकाल से चला आ रहा है इसका अविष्कार रामदेव ने नहीं किया है। उन्होंने कहा कि एलोपैथी पर हमला सोची समझी साजिश है। रामदेव व्यवसायी है उन्हें अपना व्यवसाय चलाना है इसलिए ऐसी बयानबाजी कर रहे हैं। वह भगवा पहन कर भगवे की बेईजती कर रहे हैं। उन पर कानूनी कार्रवाई होनी चाहिए। जिस भाषा का वह प्रयोग करते है उससे लगता है कि सरकार का उन्हें पूरा संरक्षण है। जब से बीजेपी की सरकार आई है तब से उनका टर्न ओवर बड़ा है। देश को जब आज मदद की जरूरत है तब भी वह व्यवसाय करने में लगे हैं।

Post a Comment

0 Comments

शिक्षक का साथ ना होने के कारण हुई परिणाम में देरी