Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

प्राकृतिक खेती बारे किसानों को करें जागरूक-ब्रह्मदास जसवाल


पधर(मंडी),कृष्ण भोज 

आत्मा प्रोजेक्ट के तहत कृषि सलाहकार समिति दरंग की बैठक डलाह पंचायत के सभागार में अध्यक्ष दलीप कुमार की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। जिसमें परियोजना निदेशक आत्मा मंडी डॉ ब्रह्मदास जसवाल ने विशेष तौर पर शिरकत कर उपस्थित मास्टर ट्रेनरों व समिति सदस्यों को प्राकृतिक खेती व आत्मा प्रोजेक्ट के बारे में विस्तृत जानकारी दी। इस दौरान प्राकृतिक खेती कर रहे किसानों ने अपने अपने अनुभव सांझा किए। 
उपस्थित लोगों को जानकारी देते हुए परियोजना निदेशक डॉ ब्रह्मदास जसवाल ने कहा कि प्राकृतिक कृषि अपनाकर हम अपने क्षेत्र को स्वास्थ्यवर्धक व जहर मुक्त कर वातावरण को स्वच्छ बना सकते हैं । समय की मांग के अनुसार आज हमें प्राकृतिक खेती को अपनाना ही होगा। बदलते परिवेश में हर चीज बदलती है। यदि हम अपने खान पान में सुधार करते हैं और प्राकृतिक तौर से उगाए गए अन्न व सब्जियों को ग्रहण करते हैं तो हम में बीमारियों के होने के आसार भी कम हो जाते हैं। 
मास्टर ट्रेनरों व उपस्थित सदस्यों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि प्राकृतिक खेती को अपनाकर ना केवल रसायनिक दवाइयों से होने वाले नुक्शान से बचा जा सकता है बल्कि फसल का उत्पादन बढ़ाकर अपनी आर्थिकी को भी मजबूत किया जा सकता है। इस दौरान उन्होंने मास्टर ट्रेनरों द्वारा अब तक किये गए कार्यों की जानकारी ली तथा इस दौरान आई समस्याओं को सुनकर उनके समाधान के उपाय भी बताए।
 उन्होंने आग्रह किया कि किसानों को प्राकृतिक कृषि पद्धति को अपनाने के लिए तैयार करें। इस अवसर पर उप परियोजना निदेशक डॉ हितेंद्र ठाकुर भी उपस्थित रहे। वहीं सलाहकार समिति के अध्य्क्ष दलीप कुमार ने परियोजना निदेशक के उपस्थित होने पर उनका धन्यावाद किया। उन्होंने कहा कि प्राकृतिक खेती के द्वारा उगाए गए अनाज, फल व सब्जियों को ज्यादा समय तक रखने के साथ साथ उनकी गुणवत्ता व स्वाद काफी बढ़ जाता है। वहीं उन्होंने किसानों व उपस्थित लोगों से आग्रह किया कि सरकार के अनुदान पर ही निर्भर ना रहें। स्वास्थ्य ठीक रहेगा तो सब ठीक है। वहीं उन्होंने देशी बीजों के सरक्षंण व संवर्धन करने का भी आग्रह किया। उन्होंने कहा कि गांव में अभी भी हमें देशी बीज प्राप्त हो सकते हैं।
इस दौरान खंड तकनीकी प्रबंधक अनिता भारद्वाज, सहायक तकनीकी प्रबंधक देविंदर कुमार व  रोहित कुमार भी उपस्थित रहे। 


Post a Comment

0 Comments

आखिर क्यों राशन डिपुओं से हुई चीनी गायब