Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

25 अप्रैल तक मंडियों पर पहुंचेगी फलस, अभी सिंचित क्षेत्रों में शुरू नहीं हुई कटाई

                                          गेहूं पर एमएसपी 150 बढ़ा, 2275 रुपये प्रति क्विंटल मिलेंगे दाम

ऊना,ब्यूरो रिपोर्ट 

जिले में गेहूं कटाई का सीजन शुरू है। इस फसल की खरीद के लिए एपीएमसी ने भी कमर कस ली है। जिले में गेहूं खरीद के लिए दो केंद्र स्थापित किए गए हैं, जिनमें एक जिला मुख्यालय के समीप रामपुर में और दूसरा अंब क्षेत्र के टकारला में है। दोनों अनाज मंडियों में खरीद प्रक्रिया को सुचारू तरीके से चलाने के लिए कर्मचारियों व मजदूरों को तैनात किया गया है।

हालांकि अभी फसल की बिक्री के लिए किसान मंडियों पर नहीं पहुंचे हैं। जानकारी के अनुसार इस बार गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) 150 रुपये बढ़ाकर 2275 रुपये की गई है, जबकि पिछले वर्ष 2125 रुपये प्रति क्विंटल एमएसपी के आधार पर गेहूं की खरीद हुई थी। जानकारी के अनुसार दोनों अनाज मंडियों में गेहूं खरीद के लिए एपीएमसी की ओर से अत्याधुनिक मशीनों को भी स्थापित किया गया है। रामपुर में तैयार नई मंडी में लगातार दूसरे साल गेहूं की खरीद होगी, जिसका लाभ ऊना के साथ हरोली, बंगाणा क्षेत्र के किसानों को भी मिलेगा। किसानों को अनाज मंडी में गेहूं बिक्री करने के महज 24 से 48 घंटों के भीतर खाते में राशि का भुगतान भी किया जाएगा।किसानों को गेहूं की बिक्री के लिए एचपी प्रेक्यूरमेंट पोर्टल (hpappp.nic.in) पर पंजीकरण करवाने के साथ गेहूं की बिक्री हेतु टोकन लेना होगा। हालांकि अभी कुछेक किसानों ने ही पंजीकरण कराया है, लेकिन आने वाले दिनों में सिंचित इलाकों पर फसल की कटाई होने पर किसान बड़ी संख्या में मंडी पहुंचेंगे।

बता दें कि ऊना में हर वर्ष करीब 35000 हेक्टेयर भूमि पर गेहूं की खेती की जाती है। इसमें 20941 हेक्टेयर गैरसिंचित क्षेत्र और 14573 हेक्टेयर सिंचाई वाले क्षेत्र में गेहूं की खेती होती है। हर वर्ष किसानों को करीब 80 मीट्रिक टन गेहूं की पैदावार होती है, लेकिन इस वर्ष मौसम की मार झेल रही गेहूं की पैदावार में कमी आने का डर भी बना हुआ है।ध्यान रहे कि खरीद केंद्रों में कोई भी व्यापारी कृषि ऊपज मंडी समिति ऊना की ओर से जारी लाइसेंस के बिना किसानों का गेहूं नहीं खरीद पाएगा। अगर बिना लाइसेंस प्राप्त कोई व्यापारी किसानों से गेहूं की खरीद करता पाया जाता है, तो उस पर कार्रवाई की जाएगी। किसान ऑनलाइन पोर्टल पर स्लॉट बुक करवा सकते हैं।






Post a Comment

0 Comments

टकारला में खेत में पड़ा पशुचारा (तूड़ी) जलकर राख