Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

हिमोफीलिया दिवस आंगनवाड़ी केन्द्र नड में मनाया गया

                                        सहज रक्तस्राव में या चोट में या सर्जरी के बाद रक्तस्राव हो सकता है

बैजनाथ,रिपोर्ट संसार शर्मा 

खंड चिकित्सा अधिकारी महाकाल डॉ दिलावर सिंह दियोल जी के सौजन्य से हिमोफीलिया दिवस आंगनवाड़ी केन्द्र नड में मनाया गया इस मौके पर स्वास्थ्य शिक्षक बीरबल वर्मा ने कहा कि हिमोफीलिया एक वंशानुगत रक्तस्राव विकार है। जिसमें रक्त ठीक से नहीं जमता है। इसमें सहज रक्तस्राव में या चोट में या सर्जरी के बाद रक्तस्राव हो सकता है। रक्त में क‌ई प्रोटीन होते हैं जिन्हें क्लोटिंग कारक कहा जाता है जो रक्तस्राव रोकने का काम करते हैं। 

इस विकार के कारण रक्तस्राव बंद नहीं होता है और क‌ई बार नकसीर,आसान आघात,भारी मासिक रक्तस्राव,प्रसव या सर्जरी के बाद रक्तस्राव या चोट लगने के बाद ख़ून बंद न होना, जोड़ों में रक्तस्राव व क‌ई बार सिर व मस्तिष्क में रक्तस्राव जो दौरे और पक्षाघात जैसी समस्याओं का कारण बन सकता है।इस बीमारी की रोकथाम के लिए जिन परिवारों में ज्ञात इतिहास है वे बच्चे के जन्म से पहले हीमोफीलिया के लिए विशेष परीक्षण की योजना बना सकते हैं। और रक्तस्राव होने पर तुरंत इलाज करवाये,अगर दांत की इनफैक्शन आदि होने पर डॉ को पहले बताये,इंनजैकशन जरुरत हो तो इंट्रा मस्कुलर के बजाय इंट्रा डर्मल लगवाये पांच से दस मिनट दबाब दे या बर्फ लगाये ताकि रक्तस्राव न हो। सर्जरी से पहले डॉ को बताये, दवाईयां बिना डॉ को बताये न खाये, बाइक चलाते समय हेलमेट पहने,इस बीमारी से पीड़ित व्यक्ति को फुटबाल, कुश्ती, मुक्केबाजी,हाकी,आदि ऐसे खेल न खेले जिससे चोट आदि का अधिक रिस्क हो। इस मौके पर आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं, आशा व स्थानीय लोगों सहित 40 से ज्यादा लोगों ने भाग लिया।





Post a Comment

0 Comments

भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष करेंगे प्रदेश भर में तीन चुनावी रैलियां