Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

धर्मशाला बाईपास मार्ग पर पूरी तरह से निजी वोल्वो बसों का कब्जा

                                    धर्मशाला-मैक्लोडगंज बाईपास पर निजी वोल्वो बसों का कब्जा

काँगड़ा,ब्यूरो रिपोर्ट 

 कोतवाली बाजार को जाम से बचाने के लिए वाहनों को गांधी वाटिका से मैक्लोडगंज भेजने के लिए बाईपास सड़क मार्ग का निर्माण किया गया है, लेकिन बस अड्डा से होकर गुजरने वाले इस बाईपास मार्ग पर पूरी तरह से निजी वोल्वो बसों का कब्जा है। ये बसें बाईपास पर जहां दुर्घटनाओं को न्योता दे रही हैं, वहीं जाम की स्थिति भी पैदा कर रही हैं। 

अन्य बसों की अपेक्षा आकार में बड़ी ये निजी वोल्वो बसें जब सड़क मार्ग पर मुड़ती हैं तो ये पूरी सड़क को ही जाम कर रही हैं, जो कि जाम के साथ हादसों का कारण बन रहा है। ये बसें रोजाना हजारों रुपये की कमाई करती हैं, लेकिन वे न तो किसी प्रकार की पार्किंग फीस देती हैं और न ही उन्हें लोगों की जान की परवाह है। अगर जिला प्रशासन मैक्लोडगंज-धर्मशाला सड़क मार्ग को वन-वे बना भी देता है तो भी ये बसें बाईपास मार्ग पर जाम का कारण बन सकती हैं।सोमवार को छुट्टी होने और कोतवाली बाजार के बंद होने के कारण गांधी वाटिका से लेकर कोतवाली बाजार तक जाम की स्थिति देखने को नहीं मिली। इसके अलावा पुलिस विभाग ने भी सड़क मार्ग पर जवानों की तैनाती की है, जो कि यातायात को सुचारू चलाने में अपनी ड्यूटी निभा रहे हैं। सोमवार को जब कोतवाली बाजार का दौरा किया तो देखा कि बाजार की इक्का-दुक्का दुकानों को छोड़कर अन्य सभी दुकानें बंद थीं।

इसके चलते सड़क मार्ग पर न तो कोई चौपहिया वाहन खड़ा था और न ही लोगों की अधिक भीड़ थी, जिस कारण सड़क पर वाहन बिना जाम की समस्या से परेशान हुए जा रहे थे। हालांकि इस दौरान दोपहिया वाहन सड़क पर खड़े थे। इस दौरान देखा गया कि फव्वारा चौक पर खड़ा डंडा सड़क मार्ग पर वाहनों के पहियों को थमते हुए देखा गया, क्योंकि खनियारा और खड़ा डंडा सड़क मार्ग से जाने वाले वाहनों के कारण वहां यह समस्या पेश आई। अगर इस सड़क मार्ग को पूरी तरह से वन-वे घोषित कर दिया जाए तो जाम की समस्या से निजात मिल सकती है।वहीं, दूसरी ओर व्यापार मंडल भी इस सड़क मार्ग को वन-वे घोषित करने की पैरवी कर चुका है। व्यापार मंडल ने यहां तक कहा है कि मैक्लोडगंज जाने वाले पर्यटक वाहनों को कोतवाली बाजार से होकर गुजारा जाए, ताकि उनके व्यापार पर कोई असर न हो। जबकि वापसी पर पर्यटक वाहनों को अलग रास्ते से धर्मशाला पहुंचाया जा सकता है। उधर, पुलिस अधीक्षक कांगड़ा शालिनी अग्निहोत्री ने कहा कि इस मामले में जल्द उचित कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।




Post a Comment

0 Comments

फिर शातिरों ने चली चाल एक युवक से तीन लाख की धोखाधड़ी